कांग्रेस ने अर्थव्यवस्था के ‘मुश्किल’ हालात पर चिंता जताते हुए गुरुवार को फैसला किया कि आर्थिक मंदी और सरकार की नीतियों के खिलाफ अगले महीने पूरे देश में प्रदर्शन किया जाएगा. कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने यह जानकारी देते हुए बताया कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व में हुई महासचिवों, प्रदेश अध्यक्षों और पार्टी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक में यह निर्णय लिया गया.

केसी वेणुगोपाल ने कहा कि 15 अक्टूबर से 25 अक्टूबर के बीच आर्थिक मंदी पर व्यापक विरोध प्रदर्शन किया जाएगा. इसके अलावा बैठक में यह भी फैसला हुआ कि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के मौके पर राज्यों में पदयात्रा निकाला जाएगी, सदस्यता अभियान शुरू होगा और कार्यकर्ताओं के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित होगा.

बैठक में सोनिया गांधी के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, पार्टी के वरिष्ठ नेता एके एंटनी, अहमद पटेल, गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा पार्टी के कई महासचिव-प्रदेश प्रभारी, प्रदेश अध्यक्ष और विधायक दल के नेता शामिल हुए.