‘भ्रष्टाचार में शामिल लोगों को उनकी सही जगह पहुंचाने का काम तेजी से चल रहा है. कुछ लोग अपनी उचित जगह पहुंच भी गये हैं.’  

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह बात झारखंड की राजधानी रांची में एक कार्यक्रम के दौरान कही. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई की उनकी सरकार की प्रतिबद्धता अटल है. प्रधानमंत्री का यह भी कहना था कि कुछ लोगों ने इस देश में अपने आप को कानून और अदालतों से भी ऊपर समझ लिया था, लेकिन आज वही लोग अदालतों से जमानत की गुहार लगा रहे हैं.

‘एनआरसी के नाम पर लोगों को बांटने की कोशिश करने वाले लोग आग से खेल रहे हैं.’  

— ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी ने असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर यानी एनआरसी के खिलाफ आज कोलकाता में एक रैली निकाली. इस कवायद की मुखर आलोचक तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने भाजपा पर इस कदम के जरिए लोगों को बांटने का प्रयास करने का आरोप लगाया. असम में एनआरसी का प्रकाशन 31 अगस्त को हुआ था. राज्य के कुल 3.29 करोड़ से ज्यादा आवेदकों में 19 लाख से ज्यादा लोग इस सूची से बाहर रह गए. यानी अब वे भारतीय नागरिक नहीं हैं.


‘यह कोई राजस्व इकट्ठा करने की योजना नहीं है. क्या आपको डेढ़ लाख लोगों की मौत की चिंता नहीं है?’  

— नितिन गडकरी, केंद्रीय सड़क और परिवहन मंत्री

नितिन गडकरी का यह बयान नए ट्रैफिक नियमों को लेकर अपनी राह चल रहे राज्यों को नसीहत देते हुए आया. उनके मुताबिक जुर्माने की रक़म इसलिए बढ़ाई गई है कि लोग नियमों का पालन करें और हादसे कम हों ताकि लोगों की जान बच सके. उनका कहना था कि इसमें उन्हें राज्य सरकारों के सहयोग की जरूरत है. कई राज्यों ने जुर्माने की रकम को आधा कर दिया है तो कइयों ने नए नियमों को अब तक लागू नहीं किया है.


‘हमें लोग बिलीव नहीं कर रहे, उनको कर रहे हैं.’  

— एजाज अहमद शाह, पाकिस्तान के आंतरिक मामलों के मंत्री

पाकिस्तान के आंतरिक मामलों के मंत्री ब्रिगेडियर एजाज अहमद शाह ने यह बात एक टीवी साक्षात्कार के दौरान कही. उनका कहना था कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जान के मुद्दे पर पाकिस्तान को दुनिया से वह समर्थन नहीं मिला जिसकी उसे उम्मीद थी. एजाज अहमद शाह ने यह भी कहा कि पाकिस्तान के सत्ताधारी एलीट क्लास ने देश की छवि बर्बाद कर दी है.