खाद्य पदार्थों के दाम बढ़ने से अगस्त महीने में खुदरा महंगाई बढ़कर 3.21 प्रतिशत पर पहुंच गयी है. यह महंगाई का पिछले दस महीनों में उच्चतम स्तर है. सरकार द्वारा जारी आधिकारिक आंकड़ों में गुरुवार को यह जानकारी दी गयी है.

उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर आधारित खुदरा महंगाई दर अगस्त में बढ़कर 3.21 फीसद पर पहुंच गई है. जबकि, जून में यह 3.18 फीसद और जुलाई में यह 3.15 फीसद पर थी. अगर खुदरा महंगाई के इस साल के मासिक आंकड़ों का विश्लेषण किया जाया तो अगस्त की 3.21 फीसद की महंगाई दर पिछले दस महीनों के उच्चतम स्तर पर है. इस साल जनवरी से करीब हर महीने महंगाई दर में वृद्धि हुई है, केवल जुलाई ही ऐसा महीना था जब महंगाई दर घटी थी. आंकड़ों के मुताबिक, अगस्त में महंगाई बढ़ने की मुख्य वजह खाद्य पदार्थों के दामों में वृद्धि रही है. अगस्त महीने में खाद्य सामग्री में 2.99 प्रतिशत की मूल्य वृद्धि रही, जो जुलाई में 2.36 प्रतिशत थी.

हालांकि, लगातार बढ़ने के बावजूद महंगाई दर अभी रिजर्व बैंक के तय दायरे के भीतर है. रिजर्व बैंक आमतौर पर खुदरा मुद्रास्फीति चार प्रतिशत के दायरे में रखने का लक्ष्य रखता है. रिजर्व बैंक की द्वैमासिक समीक्षा में खुदरा महंगाई के आधार पर ही मौद्रिक नीति तय की जाती है.