प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि उनकी सरकार भ्रष्टाचार को उखाड़ फेंकने के लिए प्रतिबद्ध है. झारखंड के रांची में एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचारियों को उनकी सही जगह पहुंचाया जा रहा है. प्रधानमंत्री के इस बयान को आज के ज्यादातर अखबारों ने पहले पन्ने पर छापा है. नरेंद्र मोदी ने कहा कि जो लोग खुद को कानून से ऊपर समझते थे, आज अदालतों के चक्कर काट रहे हैं. इसके अलावा भारत की टेस्ट टीम से बल्लेबाज केएल राहुल के बाहर होने और घरेलू क्रिकेट में अपने बल्ले के प्रदर्शन से चर्चा बटोरने वाले शुभमान गिल को मौका दिए जाने की खबर भी कई अखबारों की सुर्खियों में शामिल है.

जीएसटी फर्जीवाड़े के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी संयुक्त कार्रवाई

जीएसटी रिफंड में फर्जीवाड़ा पकड़ने के लिए टैक्स विभाग की खुफिया एजेंसियों- डीआरआइ और डीजीजीआइ ने गुरुवार को अब तक का सबसे बड़ा संयुक्त अभियान चलाया. दैनिक जागरण के मुताबिक इसके तहत करीब 15 राज्यों में 336 जगहों पर लगभग 1,200 अधिकारियों द्वारा छापामारी की गई. इस छापामारी में जीएसटी रिफंड में बड़े फर्जीवाड़े का पता चला है. शुरुआती जांच बताती है कि निर्यातकों द्वारा फर्जी इनवॉयस बनाकर इनपुट टैक्स क्रेडिट लिया जा रहा था. बताया जा रहा है कि फर्जीवाड़े की यह रकम 700 करोड़ रुपये से ज्यादा हो सकती है.

ट्रक का दो लाख रु का चालान

नए ट्रैफिक नियमों के अमल में आने के बाद से चालान की रकम दिन-ब-दिन नए रिकॉर्ड बना रही है. हिंदुस्तान के मुताबिक गुरुवार को दिल्ली परिवहन विभाग की टीम ने हरियाणा के एक ट्रक का दो लाख पांच सौ रु का चालान काटा. बताया जा रहा है कि इस ट्रक के ड्राइवर के पास लाइसेंस सहित एक भी जरूरी दस्तावेज नहीं था. इसके अलावा ट्रक पर क्षमता से काफी ज्यादा माल भी लदा हुआ था. खबर के मुताबिक जुर्माने की रकम अदा कर दी गई है. ट्रैफिक के ये नए नियम एक सितंबर से ही अमल में आए हैं.

बिहार में बच्चा चोर होने के शक में तीन पुलिसकर्मियों की पिटाई

बिहार में भीड़ ने बच्चा चोर होने के शक में तीन पुलिसकर्मियों की पिटाई कर दी. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक यह मोतिहारी जिले की घटना है. बताया जा रहा है कि भीड़ ने दो घंटे तक पुलिसकर्मियों को बंधक बनाए रखा. इसके बाद अतिरिक्त पुलिस बल भेजकर उन्हें छुड़ाया गया. इस सिलसिले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है. उधर, गुरुवार को ही वाराणसी में भीड़ ने बच्चा चोर समझकर दो लोगों को मार डाला. इनमें एक 70 वर्षीय बुजुर्ग था और दूसरा मानसिक रूप से कमजोर.

पाकिस्तान अब कुलभूषण जाधव को राजनयिक पहुंच नहीं देगा.

कुलभूषण जाधव के मामले में पाकिस्तान ने यू टर्न ले लिया है. द ट्रिब्यून के मुताबिक अब वह अपनी जेल में बंद इस भारतीय नागरिक को राजनयिक पहुंच नहीं देगा. कुछ दिनों पहले ही कुलभूषण जाधव को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के आदेश के बाद पहली बार राजनयिक पहुंच मिली थी. भारत के उप उच्चायुक्त गौरव अहलूवालिया ने उनसे मुलाकात की थी. कुलभूषण जाधव 2016 से ही पाकिस्तान की हिरासत में हैं. जासूसी और आतंकवाद के आरोप में 2017 में उन्हें मौत की सजा सुनाई गई थी.