महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और दिल्ली में गणेश विसर्जन के दौरान 33 लोगों की मौत हुई है जिनमें अधिकतर नवयुवक हैं. पीटीआई के मुताबिक मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक नाव के पलटने से 11 लोगों की मौत हो गयी. भोपाल के कलेक्टर ने मीडिया को बताया कि घटना शुक्रवार तड़के घटी और नौका में 17 लोग गणपति प्रतिमा को विसर्जित करने जा रहे थे. अधिकारियों के मुताबिक मरने वालों में छह की उम्र 20 से 30 साल है, जबकि इस घटना में दो नाबालिगों की भी मौत हुई है.

राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने घटना की मजिस्ट्रेटी जांच का आदेश दिया है. उन्होंने प्रत्येक मृतक के परिवार को 11-11 लाख रुपये का मुआवजा देने का भी आदेश दिया है. पुलिस ने दो नाविकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है.

उधर, महाराष्ट्र में गणेश विसर्जन की अलग-अलग घटनाओं में कम से कम 18 लोगों की डूबने से मौत हो गयी. एक अधिकारी के अनुसार महाराष्ट्र के अमरावती, नासिक, ठाणे, सिंधुदुर्ग, रत्नागिरि, धुले, भंडारा, नांदेड़, अहमदनगर, अकोला तथा सतारा समेत 11 जिलों में लोगों के डूबने की घटनाएं सामने आई हैं.

उन्होंने बताया कि अमरावती में चार, रत्नागिरि में तीन, नासिक, सिंधुदुर्ग तथा सतारा में दो-दो और ठाणे, धुले, बुलढाना, अकोला एवं भंडारा में एक-एक व्यक्ति की डूबने से मौत हुई है.

देश की राजधानी दिल्ली में यमुना नदी में गणेश विसर्जन के दौरान दो पुरुषों और दो महिलाओं की मौत हो गयी. पीटीआई के मुताबिक अधिकारियों ने कहा कि दमकल विभाग को बृहस्पतिवार रात नौ बजे लोगों के डूबने की सूचना मिली जिसके बाद शवों को निकाला गया. इस घटना में मरने वालों की उम्र 20 से 30 साल के बीच की थी और वे नांगलोई के निहाल विहार के रहने वाले थे.