भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने मंगलवार को कहा कि तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त राजीव कुमार को बचाने की आखिरी कोशिश के तहत नरेंद्र मोदी से मिलने का समय मांगा है. कैलाश विजयवर्गीय ने यह भी दावा किया कि ममता बनर्जी इस बात से वाकिफ हैं कि राजीव कुमार की गिरफ्तारी के बाद करोड़ों रुपये के शारदा चिटफंड घोटाले के सिलसिले में उनकी आधी कैबिनेट जेल चली जाएगी.

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘इससे पहले, हर मुद्दे पर ममता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया करती थीं. ममता ने यहां तक कहा था कि उन्हें नहीं लगता कि प्रधानमंत्री के तौर पर मोदीजी का सम्मान करने की जरूरत है. वह शपथ ग्रहण समारोह, नीति आयोग की बैठक और मुख्यमंत्रियों की बैठक में शामिल नहीं हुईं.’ विजयवर्गीय ने कहा कि ममता अचानक प्रधानमंत्री मोदी से मिलना क्यों चाह रही हैं? भाजपा नेता ने कहा, ‘ममता राजीव कुमार को बचाने के लिए हताश कोशिश कर रही हैं, लेकिन घोटाले से राजीव कुमार और पार्टी के नेताओं को बचाने की उनकी कोशिशों का कोई परिणाम नहीं निकलेगा.’

हालांकि, तृणमूल कांग्रेस ने भाजपा के इन आरोपों को बेबुनियाद बताया और कहा कि राज्य के विकास के लिए प्रधानमंत्री से मिलना किसी भी मुख्यमंत्री का अधिकार है. शारदा पोंजी घोटाले के सिलसिले में तृणमूल कांग्रेस के कई नेता और कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त राजीव कुमार सीबीआई की जांच के दायरे में हैं. राजीव कुमार कुमार फिलहाल राज्य सीआईडी के अतिरिक्त महानिदेशक के तौर पर तैनात हैं.