‘मेरा विरोध करने वालों को मानसिक इलाज की जरूरत है.’  

— बाबुल सुप्रियो, केंद्रीय मंत्री

बाबुल सुप्रियो ने यह बात कल पश्चिम बंगाल के जादवपुर विश्वविद्यालय में उनके साथ हुई धक्का-मुक्की का जवाब देते हुए कही है. वे आरएसएस से संबद्ध छात्र संगठन एबीवीपी के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने वहां पहुंचे थे, लेकिन उन्हें काले झंडे दिखाए गए और उनके कपड़े और बाल खींचे गए. इसके बाद पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ कैंपस पहुंच गए थे.

 ‘यूपी में होगा तो सबसे पहले उन्हें (योगी आदित्यनाथ) ही वापस जाना होगा. वे तो उत्तराखंड के मूल निवासी हैं.’  

— अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी अध्यक्ष

अखिलेश यादव ने यह बात उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उस टिप्पणी के जवाब में कही जिसमें कहा गया था कि जरूरत पड़ने पर राज्य में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर यानी एनआरसी लागू हो सकता है. सपा मुखिया ने एनआरसी को डराने वाली राजनीति का जरिया बताया है. असम में हाल में ही निपटी इस कवायद के नतीजे में राज्य के 19 लाख लोग गैरभारतीय साबित हुए हैं.


‘कॉरपोरेट कर में कटौती का कदम ऐतिहासिक है. इससे मेक इन इंडिया में बड़ा उछाल आयेगा.’   

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह प्रतिक्रिया वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के उस ऐलान पर दी है जिसके तहत कॉरपोरेट टैक्स में कटौती की गई है. प्रधानमंत्री ने कहा कि इससे दुनिया भर से निवेश आकर्षित होगा, निजी क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और रोजगार के अधिक अवसर सृजित होंगे. सरकार ने घरेलू कंपनियों के लिये कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर 30 के बजाय 25.17 प्रतिशत करने का ऐलान किया है.


‘ऐसे बहुत लोग हैं जो यह सोचते हैं कि हमारे गठबंधन में घचपच है. ऐसा नहीं है.’  

— नीतीश कुमार, बिहार के मुख्यमंत्री

नीतीश कुमार का यह बयान सहयोगी भाजपा से उनके मनमुटाव की खबरों को खारिज करते हुए आया है. उन्होंने कहा कि एनडीए अगले साल बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव में 200 से ज्यादा सीटों पर जीत दर्ज करके सत्ता में आएगा. नीतीश कुमार का यह भी कहना था कि जिन लोगों में राजनीतिक सूझबूझ की कमी है, वे उन पर निजी हमले करके प्रचार पाने की कोशिश करते हैं.