मद्रास हाई कोर्ट की मुख्य न्यायाधीश विजया के ताहिलरमानी का इस्तीफा स्वीकार कर लिया लिया गया है. पीटीआई के मुताबिक एक सरकारी अधिसूचना में यह जानकारी दी गई. अधिसूचना में कहा गया है कि विजया के ताहिलरमानी का इस्तीफा छह सितंबर से प्रभावी रूप से स्वीकार हो गया है. एक अन्य अधिसूचना में बताया गया है कि न्यायमूर्ति वी कोठारी को मद्रास हाई कोर्ट का कार्यवाहक न्यायाधीश नियुक्त किया गया है. विजया के ताहिलरमानी ने इस महीने की शुरुआत में इस्तीफा दे दिया था. उन्होंने यह कदम तब उठाया जब सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने उन्हें मेघालय हाई कोर्ट ट्रांसफर किए जाने के आदेश पर पुनर्विचार करने का उनका अनुरोध ठुकरा दिया.

विजया के ताहिलरमानी को पिछले साल आठ अगस्त को मद्रास हाई कोर्ट का मुख्य न्यायाधीश बनाया गया था. उन्हें अक्टूबर 2020 में रिटायर होना था. बीती 28 अगस्त को मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व वाले कॉलेजियम ने उन्हें मेघालय हाई कोर्ट स्थानांतरित किए जाने की सिफारिश की. उसी दिन कॉलेजियम ने मेघालय हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एके मित्‍तल को मद्रास हाई कोर्ट का मुख्य न्यायाधीश बनाने का फैसला किया. जस्टिस विजया के ताहिलरमानी से मेमोरेंडम ऑफ प्रोसीजर के मुताबिक जवाब मांगा गया तो उन्‍होंने दो सितंबर को कॉलेजियम से ट्रांसफर पर फिर से विचार करने की गुजारिश की. तीन सितंबर को कॉलेजियम ने अपने फैसले पर कायम रहने की बात कही. इसके बाद विजया ताहिलरमानी ने इस्तीफा दे दिया.

मेघालय हाई कोर्ट में विजया के ताहिलरमानी के तबादले के फैसले के बाद मद्रास और बंबई हाई कोर्ट के वकीलों ने बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन किए थे. इसके बाद 12 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि विभिन्न हाई कोर्टों के मुख्य न्यायाधीशों और न्यायाधीशों के तबादले की प्रत्येक अनुशंसा ठोस वजहों पर आधारित होती है. विजया के ताहिलरमानी का नाम लिए बगैर ही सुप्रीम कोर्ट के सेक्रेटरी जनरल संजीव एस कलगांवकर के कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, ‘न्यायाधीशों के तबादले के कारणों का खुलासा संस्थान हित में नहीं किया जाता. लेकिन शीर्ष अदालत का कॉलेजियम, ऐसी परिस्थितियों में जहां यह जरूरी हो जाएगा, इसका खुलासा करने से नहीं हिचकिचाएगा.’