हाउडी मोदी : प्रधानमंत्री का पाकिस्तान पर निशाना

अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में हुए ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और डोनाल्ड ट्रंप ने 50 हजार के करीब भारतीय-अमेरिकियों को संबोधित किया. द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक इस दौरान धारा 370 पर अपनी सरकार के फैसले और उसे लेकर पाकिस्तान के विरोध की तरफ संकेत करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘भारत अपने यहां जो कर रहा है, उससे कुछ ऐसे लोगों को भी दिक्कत हो रही है जिनसे खुद अपना देश नहीं संभल रहा है. उन्होंने भारत के प्रति नफ़रत को ही अपनी राजनीति का केंद्र बना दिया है. आतंक के समर्थक हैं, आतंक को पालते-पोसते हैं. उनकी पहचान सिर्फ़ आप नहीं पूरी दुनिया अच्छी तरह जानती है.’ उधर, डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि इस्‍लामिक कट्टरपंथ और आतंकवाद से लड़ने के लिए दोनों देश एक हों.

इस हफ्ते बैंक चार दिन बंद रहेंगे

रोजमर्रा के कामकाज के लिए बैंकों पर निर्भर रहने वाले लोगों के लिए यह हफ्ता परेशानियों वाला हो सकता है. अमर उजाला की खबर के अनुसार बैंककर्मियों के संगठन ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कॉनफेडरेशन ने 26 और 27 सितंबर को देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है. इस दौरान बैंकों में कोई काम नहीं होगा. 28 सितंबर को महीने का आखिरी शनिवार होने के कारण बैंक बंद रहेंगे और अगले दिन साप्ताहिक छुट्टी यानी रविवार है. बैंक कर्मचारियों के संगठन सरकारी बैंकों के विलय का विरोध कर रहे हैं.

इसरो प्रमुख के दावे पर वैज्ञानिकों के सवाल

चंद्रयान-2 अभियान को 98 फीसदी सफल बताने के इसरो प्रमुख के सिवन के दावे पर वैज्ञानिकों ने गंभीर सवाल उठाए हैं. द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक इन वैज्ञानिकों का कहना है कि बिना आत्ममंथन के इस तरह की टिप्पणियां कर देने से दुनिया के सामने देश का बनता है. उनके मुताबिक इस अभियान का मुख्य हिस्सा लैंडर और रोवर ही था. इसरो चेयरमैन के सलाहकार तपन मिश्रा ने सोशल मीडिया पर के सिवन के नेतृत्व पर चुटकी लेते हुए लिखा है, ‘नेता प्रेरणा देते हैं, वे मैनेज नहीं करते.” सिवन के इसरो चेयरमैन बनने के बाद तपन मिश्रा को अहमदाबाद के स्पेस एप्लिकेशन सेंटर के निदेशक के पद से हटा दिया गया था.

जजों में ईमानदारी का उत्कृष्ट गुण होना चाहिए : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि जजों में ईमानदारी का उत्कृष्ट गुण होना चाहिए ताकि वे जनता की सेवा कर सकें.नवभारत टाइम्स मुताबिक शीर्ष अदालत ने यह टिप्पणी महाराष्ट्र के एक न्यायिक अधिकारी के प्रति कोई नरमी बरतने से इनकार करते हुए की. इस अधिकारी ने उसे 2004 में सेवा से बर्ख़ास्त किए जाने को चुनौती दी थी. आरोप था कि अधिकारी का एक महिला वकील से करीबी रिश्ता था और इसके चलते उसने उस वकील के मुवक्किलों के पक्ष में आदेश दिए. न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और अनिरुद्ध बोस की पीठ ने कहा कि न्यायपालिका ईमानदारी की नींव पर बनी संस्था है.