मध्य प्रदेश के शिवपुरी से एक दिल दहलाने वाली खबर सामने आई है. शिवपुरी में दो मासूम बच्चों की हत्या कर दी गई क्योंकि वे पंचायत भवन के सामने शौच कर रहे थे. खबरों के मुताबिक दोनों बच्चे दलित समुदाय के थे.

पीटीआई के मुताबिक बुधवार को शिवपुरी के भावखेड़ी गांव में इस घटना को कथित तौर पर दो व्यक्तियों ने अंजाम दिया है. घटना के बाद सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने इन दोनों आरोपियों हाकिम यादव और उसके भाई रामेश्वर यादव को गिरफ्तार कर लिया है. शिवपुरी के एसपी राजेश सिंह चंदेल ने एएनआई से कहा, ‘आरोपियों को हिरासत में ले लिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है, आगे की जांच जारी है.’ पुलिस ने दोनों आरोपियों पर हत्या और अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचारों की रोकथाम) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है.

पुलिस के मुताबिक प्रारंभिक जांच में पता चला है कि घटना में दो ही व्यक्ति कथित तौर पर शामिल थे. बुरी तरह पीटे जाने से दोनों बच्चों (रोशनी वाल्मीकि 12 साल और अविनाश वाल्मीकि 10 साल) को गंभीर चोटें आई थीं. इसके बाद बच्चों को जिला अस्पताल ले जाने के बाद अस्पताल के डॉक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया.

बच्चों के परिजनों का कहना है कि उनका गांव यादव बहुल है और गांव में उनके साथ जातिगत आधार पर बहुत भेदभाव किया जाता है. पीटीआई के मुताबिक मृतक अविनाश के पिता मनोज बाल्मीकि ने यह भी बताया है, ‘दो साल पहले मेरी आरोपियों से बहस हुई थी और उन्होंने मुझे जातिगत गालियां देते हुए मारने की धमकी दी थी. इसके अलावा वे चाहते थे कि मैं कम पैसे में उनके लिये मजदूरी करुं.’

उधर, इस मामले पर बसपा प्रमुख मायावती ने केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साधा है. मायावती ने ट्वीट कर हत्यारों के लिए फांसी की सजा की मांग की है.