‘सुरक्षा बल किसी भी स्थिति का सामना करने के लिए तैयार हैं.’

— राजनाथ सिंह, गृह मंत्री

राजनाथ सिंह ने यह प्रतिक्रिया इस खबर पर दी है कि पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकी कैंप फिर सक्रिय हो गया है. थल सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने सोमवार को कहा था कि इस कैंप में मौजूद करीब 500 घुसपैठिए भारत में घुसने की फिराक में हैं. राजनाथ सिंह ने कहा कि जहां तक देश की सुरक्षा का सवाल है तो सशस्त्र बलों के पास ऐसी चुनौतियों से निपटने की क्षमता है.

‘उन्होंने बहुत पहले चुनाव लड़ा था और मंत्री बने थे, लेकिन उसके बाद से वे भाजपा के सदस्य नहीं हैं.’  

— हरिश्चंद्र श्रीवास्तव, भाजपा की उत्तर प्रदेश इकाई के प्रवक्ता

भाजपा प्रवक्ता ने यह बात यौन शोषण से घिरे पार्टी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद के बारे में कही है. उन्होंने यह भी कहा कि मामले में कानून अपना काम कर रहा है. तीन बार भाजपा सांसद रहे चिन्मयानंद वाजपेयी सरकार में गृह राज्य मंत्री भी रह चुके हैं. फिलहाल वे न्यायिक हिरासत में हैं.


‘अगर कोई बिजली-पानी की मांग को लेकर भी प्रदर्शन की बात कहता है तो उससे पूछा जाता है कि वह भारत में किस जेल में जाना चाहता है?’  

— गुलाम नबी आजाद, वरिष्ठ कांग्रेस नेता

गुलाम नबी आजाद ने यह बात जम्मू-कश्मीर का अपना छह दिवसीय दौरा खत्म करने के बाद कही है. उन्होंने आरोप लगाया कि विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद से राज्य में कहीं भी लोकतंत्र नहीं है. गुलाम नबी आजाद को दो बार श्रीनगर एयरपोर्ट से लौटाए जाने के बाद हाल में सुप्रीम कोर्ट ने राज्य में जाने की अनुमति दी थी.


‘मुझे कोई समस्या नहीं होगी अगर मुझे जेल जाना पड़ता है. इससे मुझे खुशी होगी क्योंकि मेरा पहले कभी जेल जाने का अनुभव नहीं रहा है.’  

— शरद पवार, एनसीपी मुखिया

शरद पवार की यह प्रतिक्रिया ईडी द्वारा महाराष्ट्र सहकारी बैंक (एमएससीबी) घोटाले में उनके खिलाफ मामला दायर होने के बाद आई. हालांकि उनका यह भी कहना था कि वे 25 हजार करोड़ रु के इस घोटाले की जांच में पूरा सहयोग करेंगे. यह मामला ऐसे समय दर्ज किया गया है, जब महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होने हैं


‘विपक्षी डेमोक्रेट्स के इस कदम से 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में मेरे दोबारा चुने जाने की संभावना मजबूत ही होगी.’  

— डोनाल्ड ट्रंप, अमेरिकी राष्ट्रपति

अमेरिका के राष्ट्रपति का यह बयान उनके खिलाफ महाभियोग की आधिकारिक प्रक्रिया शुरू होने के बाद आया है. अमेरिका के निचले सदन ‘हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स’ की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने इसका ऐलान किया है. उन्होंने कहा कि डोनाल्ड ट्रंप ने अपने डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बाइडन को नुकसान पहुंचाने के लिए विदेशी ताकतों का इस्तेमाल कर अपने पद की शपथ का उल्लंघन किया. हालांकि इस महाभियोग के संसद के ऊपरी सदन सीनेट में पारित होने की संभावना नहीं है जहां डोनाल्ड ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी का बहुमत है.