दिल्‍ली में भाजपा कार्यकर्ताओं ने आज मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर के सामने विरोध प्रदर्शन किया. इनमें से कइयों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. भाजपा की दिल्ली इकाई ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई है. इसमें कहा गया है कि आप संयोजक ने दिल्ली में रहने वाले पूर्वांचली समाज के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी कर कानून-व्यवस्था की स्थिति खराब करने की कोशिश की है.

इसकी वजह अरविंद केजरीवाल का यह बयान है कि दिल्‍ली में एनआरसी लागू हुआ तो सबसे पहले दिल्ली में भाजपा के मुखिया और सांसद मनोज तिवारी वापस जाएंगे. इस पर मनोज तिवारी ने भी पलटवार किया था. उनका कहना था कि अरविंद केजरीवाल अपना मानसिक संतुलन खो चुके हैं. उन्होंने कहा, ‘जो लोग अन्य राज्यों से दिल्ली में आकर बसे हैं, उन्हें आप विदेशी मान रहे हैं!’

मनोज तिवारी कई बार असम की तरह राजधानी में भी एनआरसी लागू करने की मांग कर चुके हैं. उनके मुताबिक दिल्ली में बहुत से घुसपैठिए हैं, जिन्हें बाहर किया जाना चाहिए. इस सिलसिले में वे कुछ समय पहले गृहमंत्री अमित शाह से भी मिले थे. असम में 31 अगस्त को ही एनआरसी की आखिरी सूची प्रकाशित हुई है. इसमें राज्य के 19 लाख लोगों का नाम नहीं है. यानी इन्हें भारत का नागरिक नहीं माना गा है.