सीबीआई ने पश्चिम बंगाल के चर्चित ‘नारद स्टिंग प्रकरण’ में वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी एसएमएच मिर्जा को गिरफ्तार कर लिया है. इस मामले से जुड़े स्टिंग ऑपरेशन की वीडियो क्लिप 2016 में सामने आने के बाद से इस सिलसिले में यह पहली गिरफ्तारी है. गुरूवार को जांच एजेंसी के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. गिरफ्तारी के बाद मिर्जा को कोलकाता की विशेष सीबीआई अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें 30 सितंबर तक जांच एजेंसी की हिरासत में भेज दिया गया.

पीटीआई के मुताबिक जांच एजेंसी के अधिकारी ने कहा, ‘पहले भी हमने एसएमएच मिर्जा से कई मौकों पर पूछताछ की है. आज हमने एक और दौर की पूछताछ के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया. नारद टेप प्रकरण में वह एक मुख्य कड़ी हैं.’

2016 के पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले जारी किये गये एक फुटेज में तृणमूल कांग्रेस के कुछ नेता और मिर्जा एक फर्जी कंपनी को लाभ पहुंचाने के बदले उसके प्रतिनिधियों से रुपये लेते देखे गये थे. एसएमएच मिर्जा उस वक्त वर्धमान जिले के पुलिस अधीक्षक थे. उस समय ‘नारद न्यूज पोर्टल’ के मैथ्यू सैमुएल्स ने यह स्टिंग ऑपरेशन किया था. आईपीएस अधिकारी एक वीडियो क्लिप में एक कारोबारी से कथित तौर पर पांच लाख रुपये नकद लेते दिखे थे.

सीबीआई सूत्रों के मुताबिक मिर्जा की आवाज के नमूनों का मिलान भी टेप से हो गया है. जांच एजेंसी से जुड़े एक सूत्र ने पीटीआई को यह भी बताया, ‘एसएमएच मिर्जा से अतीत में आठ बार पूछताछ की गई थी, लेकिन वह असल में सहयोग नहीं कर रहे थे. हमारे पास उनके खिलाफ प्रचुर साक्ष्य हैं.’