‘कुछ ऐसी ताकतें हैं जो भारत के तटीय क्षेत्र में मुंबई जैसे हमले दोबारा करना चाहती हैं.’  

— राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री

राजनाथ सिंह ने यह बात भारत की स्कॉर्पीन वर्ग की दूसरी पनडुब्बी आईएनएस खंडेरी को नौसेना में शामिल किए जाने के मौके पर पाकिस्तान की तरफ इशारा करते हुए कही. उनका कहना था इन ताकतों के मंसूबों को कामयाब नहीं होने दिया जाएगा. राजनाथ सिंह ने कहा, ‘भारतीय नौसेना आईएनएस खंडेरी के शामिल होने से पहले से ज्यादा मजबूत हुई है.’

‘एक शिवसैनिक को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनाने का वादा पूरा करूंगा.’

— उद्धव ठाकरे, शिव सेना प्रमुख

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का यह बयान महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिये भाजपा के साथ सीटों के बंटवारे को लेकर हो रही देरी के बीच आया है. उनके मुताबिक उन्होंने यह वादा पार्टी के पूर्व मुखिया और अपने पिता बाला साहेब ठाकरे से किया था. उद्धव ठाकरे ने कहा कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ बातचीत सही दिशा में आगे बढ़ रही है. महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होना है.


‘इमरान खान ‘जेंटलमेन्स गेम’ के खिलाड़ी रहे हैं, लेकिन उनका भाषण असभ्यता का चरम था.’

— विदिशा मैत्रा, विदेश मंत्रालय में प्रथम सचिव

विदिशा मैत्रा ने यह बात संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के भाषण का जवाब देते हुए कही. ‘राइट टू रिप्लाई’ के तहत जवाब देते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय की प्रथम सचिव विदिशा मैत्रा ने कहा कि इमरान खान का भाषण भड़काऊ था और उनकी कही हर बात झूठ थी. गुरुवार को इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित किया था. अपने लगभग 50 मिनट के भाषण में उन्होंने कहा था कि भारत ने पाकिस्तान की तरफ से की गई शांति की सभी कोशिशों को नकार दिया.


‘मेरे पास इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि उन्होंने यह फैसला क्यों लिया.’  

— शरद पवार, एनसीपी प्रमुख

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने यह बात अपने भतीजे और महाराष्ट्र के पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार के विधायक पद से इस्तीफे को लेकर कही है. एनसीपी मुखिया का हालांकि यह भी कहना था कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा मनी लॉन्डरिंग मामले में उनका नाम लिए जाने पर अजित पवार बेचैन थे. ईडी ने बैंक घोटाले के संबंध में शरद पवार, अजित पवार और 70 अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.


‘मेरी मां ने मुझे सिखाया था कि दूसरों के पत्र पढ़ना बुरी बात है.’  

— सर्गेई लावरोव, रूस के विदेश मंत्री

रूसी विदेश मंत्री का यह बयान डोनाल्ड ट्रंप और यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लादिमीर जेलेंस्की के बीच हुई बातचीत उजागर होने के बाद खड़े हुए विवाद के बाद आया है. उनका कहना था कि कूटनीतिक शिष्टाचार एक निश्चित स्तर पर गोपनीयता की मांग करता है. 25 जुलाई को व्लादिमीर जेलेंस्की के साथ डोनाल्ड ट्रंप की बातचीत के सार्वजनिक होने के बाद विवाद खड़ा हो गया था. इसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग की कार्रवाई भी शुरू की गई है.