इस्लामिक देशों के मुकाबले भारत में मुसलमान अधिक भाग्यशाली हैं : मार्क टुली | रविवार, 22 सितंबर 2019

जाने-माने पत्रकार मार्क टुली ने कहा है कि इस्लामिक देशों के मुकाबले भारत में मुसलमान अधिक भाग्यशाली हैं क्योंकि यहां वे किसी भी इस्लामिक परंपरा की उपासना कर सकते हैं. पीटीआई के मुताबिक ‘इक्वेटर लाइन’ पत्रिका के ताजा अंक में टुली के हवाले से लिखा गया है, ‘भारत की सहिष्णुता की भावना उसकी ताकत है, जिससे विभिन्न धर्मों के लिए साथ मिलजुल कर रहने का सद्भावपूर्ण माहौल बनता है. भारत दुनिया में अनूठा है और यह सभी धर्मों का घर है.’

पत्रकार मार्क टुली आगे कहते हैं, ‘भारत में आध्यात्मिकता है. अभी भी धर्मों में विविधता है. इस्लामी देशों के मुसलमानों के मुकाबले भारत में मुसलमान अधिक भाग्यशाली हैं क्योंकि भारत में वे किसी भी इस्लामी परंपरा में पूजा कर सकते हैं.’

सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह, पी चिदंबरम से मिलने तिहाड़ पहुंचे | सोमवार, 23 सितंबर 2019

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सोमवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम से मिलने दिल्ली की तिहाड़ जेल पहुंचे. ये मुलाकात करीब 25 मिनट चली. पूर्व वित्त मंत्री पांच सितंबर से तिहाड़ में हैं. उनकी न्यायिक हिरासत तीन अक्टूबर तक बढ़ा दी गई है. बीते हफ्ते कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और अहमद पटेल भी पी चिदंबरम से मिलने पहुंचे थे. पी चिदंबरम को बीते महीने सीबीआई ने आईएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार किया था. यह 2006 का मामला है. आरोप है कि आईएनएक्स मीडिया में विदेशी निवेश की मंजूरी देने में गड़बड़ी की गई. तब वित्त मंत्री पी चिदंबरम ही थे. इस मामले में उनके बेटे कार्ति चिदंबरम भी आरोपित हैं. इस मामले की एक आरोपित इंद्राणी मुखर्जी अब सरकारी गवाह हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर चिंता जताई, कहा - मामला खतरनाक मोड़ पर पहुंच गया है | मंगलवार, 24 सितंबर 2019

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा है कि वो उसे सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर रोक संबंधी दिशा-निर्देश बनाने की समय-सीमा बताए. अदालत ने कहा कि सोशल मीडिया का दुरुपयोग खतरनाक मोड़ पर पहुंच चुका है और अब सरकार को स्थिति में दखल देना ही चाहिए. शीर्ष अदालत ने कहा कि वो इस मुद्दे पर फैसला लेने में सक्षम नहीं है और सरकार ही है जो इस पर दिशा-निर्देश ला सकती है. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने आधार को सोशल मीडिया प्रोफाइल से लिंक करने संबंधी मामले में केंद्र सरकार से जवाब मांगा था.

ये पूरा मामला तब शुरू हुआ जब तमिलनाडु सरकार ने सोशल मीडिया प्रोफाइल को आधार से लिंक कराने संबंधी पहल की. उसका तर्क है कि ऐसा होने से सोशल मीडिया के जरिए राष्ट्रविरोधी और आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा देने वालों पर नकेल कसी जा सकेगी. सरकार की इस पहल पर फेसबुक को एतराज है. उसका कहना है कि आधार को सोशल मीडिया अकाउंट से लिंक करने पर यूजर्स की प्राइवेसी खत्म हो जाएगी जो प्राइवेसी नियमों का उल्लंघन होगा.

चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली छात्रा को रंगदारी के आरोप में गिरफ्तार किया गया’ | बुधवार, 25 सितंबर 2019

पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली छात्रा को बुधवार को रंगदारी मांगने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर गठित एसआईटी ने कहा कि यह कार्रवाई पर्याप्त सबूतों के बाद की गई है. एसआईटी प्रमुख नवीन अरोड़ा ने बताया कि इस आरोप के समर्थन में ठोस सबूत हैं कि चिन्मयानंद से पांच करोड़ रुपये की मांग की गयी थी. पूर्व केंद्रीय मंत्री का आरोप है कि छात्रा उन्हें ब्लैकमेल कर रही थी. चिन्मयानंद फिलहाल 14 दिन की न्यायिक हिरासत में हैं. उधर, अदालत ने छात्रा को भी सात अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. कानून की पढ़ाई कर रही इस छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो जारी करके चिन्मयानंद पर कई लड़कियों की जिंदगी बर्बाद करने का आरोप लगाया था.

चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, कर्नाटक की 15 विधानसभा सीटों पर होने वाला उपचुनाव टाला | गुरुवार, 26 सितंबर 2019

कर्नाटक की 15 विधानसभा सीटों पर 21 अक्टूबर को होने वाला उपचुनाव टल गया. चुनाव आयोग ने आज सुप्रीम कोर्ट को यह जानकारी दी. आयोग के मुताबिक उसने ये फैसला इसलिए किया है ताकि शीर्ष अदालत राज्य के उन विधायकों की याचिका पर फैसला कर सके जिन्होंने उन्हें अयोग्य घोषित किए जाने को चुनौती दी. इन विधायकों के अयोग्य घोषित होने के बाद ही उनकी सीटों पर उपचुनाव हो रहा है. ये विधायक कांग्रेस और जेडीएस के हैं. इसी जुलाई में इन्होंने इस्तीफा दे दिया था और इनकी इस बगावत के चलते अल्पमत में आई एचडी कुमारस्वामी सरकार गिर गई थी. हालांकि विधानसभा अध्यक्ष केआर रमेश ने उनका इस्तीफा स्वीकार करने के बजाय इन्हें अयोग्य घोषित कर दिया था. विधायकों ने इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. उनका कहना था कि विधानसभा अध्यक्ष का यह फैसला मनमानी और संविधान द्वारा उन्हें दी गई शक्तियों का दुरुपयोग है.

गोरखपुर मेडिकल कॉलेज कांड में आरोपित डॉक्टर कफील खान को राहत, जांच में क्लीन चिट मिली | शुक्रवार, 27 सितंबर 2019

गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की मौत के मामले में आरोपित डॉक्टर कफील अहमद खान को क्लीन चिट दे दी गई. जांच में उनके खिलाफ ऐसा कोई भी सबूत नहीं पाया गया जो इलाज में लापरवाही को साबित करता हो. उधर, हाल में एक आरटीआई आवेदन के जवाब में सरकार ने भी माना है कि 11 और 12 अगस्त 2017 को गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में 54 घंटे तक लिक्विड ऑक्सीजन की कमी थी. डॉक्टर कफील खान ने इसे अपनी जीत बताते हुए सरकार से मांग की है कि उन्हें नौकरी पर बहाल किया जाए. दो साल पहले गोरखपुर स्थित बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में करीब 60 बच्चों की मौत हुई थी. इसका मुख्य कारण ऑक्सीजन की कमी को माना गया था. हालांकि सरकार ने इस आरोप को गलत बताया था. डॉक्टर कफील खान पर इलाज में लापरवाही का आऱोप लगा था. वे कई महीने तक जेल में भी रहे थे.

एक शिवसैनिक को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनाने का वादा पूरा करूंगा : उद्धव ठाकरे | शनिवार, 28 सितंबर 2019

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिये सीटों के बंटवारे को लेकर हो रही देरी के बीच शिव सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने एक बड़ा बयान दिया. शनिवार को उन्होंने कहा कि वे एक शिवसैनिक को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनाने का अपने पिता और शिवसेना के पूर्व प्रमुख दिवंगत बाल ठाकरे से किया वादा पूरा करेंगे. हालांकि, उद्धव ठाकरे ने यह भी कहा कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ बातचीत सही दिशा में आगे बढ़ रही है और अंतिम निर्णय की घोषणा जल्द ही की जाएगी.

शिवसेना प्रमुख ने ये बातें मुंबई के बांद्रा में रंग शारदा ऑडिटोरियम में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहीं. उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘मैंने बालासाहेब से वादा किया था कि मैं एक शिवसैनिक को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनाऊंगा. मैंने ये वादा पूरा करने की प्रतिज्ञा की है.’

देश और दुनिया की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें.