अमेरिका का कहना है कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद, पाकिस्तानी आतंकवादी भारत में हमलों को अंजाम दे सकते हैं. अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक अगर पाकिस्तान इन आतंकवादी समूहों को काबू में रखे तो इन हमलों को रोका जा सकता है.

पीटीआई के मुताबिक भारत प्रशांत सुरक्षा मामलों के सहायक रक्षा मंत्री रैंडल शाइवर ने वाशिंगटन में कहा, ‘मुझे लगता है कि कश्मीर को लेकर भारत के निर्णय के बाद सीमा पार से कई बड़े हमलों को अंजाम दिया जा सकता है. हालांकि मुझे नहीं लगता कि चीन इस तरह के हमलों का समर्थन करेगा या उसे सही बताएगा. क्योंकि कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को चीन का समर्थन बहुत हद तक कूटनीतिक एवं राजनीतिक समर्थन ही है.’ रैंडल शाइवर ने यह बात चीन द्वारा कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का समर्थन करने या नहीं करने को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में कही.

शाइवर ने आगे कहा कि चीन ने पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय मंच पर समर्थन दिया है. संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दा ले जाया जाए या नहीं, इस संबंध में कुछ चर्चा हुई तो चीन इसका समर्थन करेगा. लेकिन इससे ज्यादा शायद ही चीन कुछ करे. उनका यह भी कहना था कि चीन का पाकिस्तान के साथ लंबे समय से संबंध है और इन दोनों की भारत के साथ प्रतिद्वंद्विता बढ़ रही है. हालांकि, अमेरिकी मंत्री का यह भी मानना है कि पाकिस्तान से अलग भारत चीन के साथ स्थिर संबंध चाहता है. रैंडल शाइवर ने विदेश मंत्री एस जयशंकर के मौजूदा दौरे का जिक्र करते हुए यह कहा कि अमेरिका भारत के साथ कई मामलों को लेकर विचार-विमर्श कर रहा है.