सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल के 215 रनों की बदौलत भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैच श्रृंखला के शुरूआती मैच में पहली पारी में पांच विकेट पर 450 रन बना लिये हैं. मयंक शर्मा का विकेट कामचलाऊ स्पिनर डीन एल्गर ने झटका जो अपना पांचवां ही टेस्ट खेल रहे हैं. टी ब्रेक तक हनुमा विहारी आठ और रविंद्र जडेजा छह रन बनाकर क्रीज पर डटे थे.

इससे पहले, आज रोहित शर्मा और मयंक अग्रवाल की जोड़ी टेस्ट क्रिकेट इतिहास में 300 रन की भागीदारी निभाने वाली तीसरी भारतीय सलामी जोड़ी बन गयी. उन्होंने 317 रन की साझेदारी करके हासिल की. रोहित शर्मा ने टेस्ट में सलामी बल्लेबाज के तौर पर शुरुआत करते हुए 176 रन की पारी खेली जबकि मयंक अग्रवाल ने अपना पहला टेस्ट शतक जड़ा. टेस्ट क्रिकेट में पहले विकेट के लिये 300 रन से ज्यादा की भागीदारी निभाने वाली अन्य भारतीय जोड़ियां हैं वीनू मांकड़-पंकज रॉय (1956 में न्यूजीलैंड के खिलाफ 413 रन) और वीरेंद्र सहवाग-राहुल द्रविड़ (2006 में पाकिस्तान के खिलाफ 410 रन).

विश्व कलात्मक जिमनास्टिक्स में भारत के लिए कड़ी चुनौती

चोटिल दीपा करमाकर की अनुपस्थिति में भारतीय जिम्नास्टों को शुक्रवार से शुरू हो रही विश्व कलात्मक जिम्नास्टिक्स चैम्पियनशिप में कड़ी चुनौती का सामना करना होगा. यह प्रतियोगिता जर्मनी के स्टुटगार्ट में हो रही है. भारतीयों को हालांकि पदक की उम्मीद नहीं होगी लेकिन वे अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहेंगे. ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय जिम्नास्ट दीपा करमाकर रियो ओलंपिक के वाल्ट फाइनल्स में चौथे स्थान पर रही थीं. लेकिन देश की शीर्ष जिम्नास्ट घुटने की चोट से उबरने में असफल होने के कारण इसमें भाग नहीं ले पाएंगी.

दीपा की अनुपस्थिति में महिला वर्ग में प्रभावित करने की जिम्मेदारी प्रणति नायक, प्रणति दास और अरुणा बुड्डा रेड्डी पर होगी जिन्हें पिछले महीने छह सदस्यीय भारतीय टीम में चुना गया है. प्रणति नायक ने इस साल के शुरू में मंगोलिया में सीनियर एशियाई कलात्मक जिम्नास्टिक्स चैम्पियनशिप की वॉल्ट स्पर्धा में कांस्य पदक और अरुणा ने 2018 जिम्नास्टिक विश्व कप में कांस्य पदक जीता था. पुरुष वर्ग में सभी का ध्यान 2010 एशियाई खेलों के कांस्य पदकधारी आशीष कुमार के प्रदर्शन पर लगा होगा. विश्व चैम्पियनशिप में ओलंपिक कोटे भी दांव पर लगे होंगे जिसमें प्रत्येक वर्ग (2018 से पहले ही क्वालीफाई करने वाले तीन वर्गों को छोड़कर) में शीर्ष नौ टीमें टोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करेंगी. व्यक्तिगत ओलंपिक स्थान भी दांव पर लगे होंगे जिसमें शीर्ष 12 पुरुष और 20 महिला जिम्नास्ट टोक्यो के लिये क्वालीफाई करेंगे.

एशेर स्मिथ और होलोवे ने विश्व चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीते

दीना एशेर स्मिथ ने दोहा में चल रही विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनिशप की 200 मीटर स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतकर ब्रिटेन का 36 साल का इंतजार खत्म कर दिया. 100 मीटर स्पर्धा में रजत पदक जीतने वाली एशेर स्मिथ ने 200 मीटर में दबदबा बनाते हुए 21.88 सेकेंड के समय के साथ पहला स्थान प्राप्त किया. इस तरह 23 साल की एशेर स्मिथ विश्व चैम्पियनशिप के इतिहास में 100 मीटर या 200 मीटर में स्वर्ण पदक जीतने वाली ब्रिटेन की पहली महिला एथलीट बन गयीं. अमेरिका की ब्रिटनी ब्राउन ने 22.22 सेकेंड के समय के साथ दूसरा और स्विट्जरलैंड की मुजींगा काम्बुंद्जी ने 22.51 सेकेंड के साथ तीसरा स्थान हासिल किया. उधर, अमेरिका की ग्रांट होलोवे ने 110 मीटर बाधा दौड़ में स्वर्ण पदक जीता. उन्होंने फाइनल में 13.10 सेकेंड का समय निकालकर स्वर्ण पदक अपनी झोली में डाला.