पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने वाले पहले सर्वदलीय जत्थे का हिस्सा होंगे. उन्होंने यह भी स्पष्ट किया है कि मनमोहन सिंह पाकिस्तान के निमंत्रण पर करतारपुर गलियारा उद्घाटन समारोह में शामिल नहीं हो रहे हैं.

बुधवार को कुछ चैनलों पर ऐसी खबरें प्रसारित हुई थीं कि पूर्व प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान का न्योता स्वीकार कर लिया है और वे करतारपुर गलियारा के उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए पाकिस्तान जाएंगे.

पीटीआई के मुताबिक अमरिंदर सिंह ने गुरूवार को स्पष्ट किया कि मनमोहन सिंह करतारपुर गलियारा के उद्घाटन समारोह के लिए पाकिस्तान नहीं जाएंगे. वह सिर्फ उस सर्वदलीय जत्थे में शामिल होंगे जो करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाएगा. उन्होंने कहा, ‘करतारपुर गलियारा के उद्घाटन समारोह के लिए मेरे पाकिस्तान जाने का कोई सवाल नहीं है. मुझे लगता है कि मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे.’

पंजाब के मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि वह तब तक पाकिस्तान नहीं जाएंगे जब तक यह पड़ोसी देश सीमापार आतंकवाद पर रोक नहीं लगाता.

अमरिंदर सिंह ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अलग-अलग मुलाकात की है. उन्होंने इन दोनों से गुरु नानक देव की जयंती के पावन अवसर पर होने वाले कार्यक्रमों में शामिल होने का आग्रह किया है. पंजाब के मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दोनों ने पंजाब सरकार के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है. पंजाब सरकार प्रकाश पर्व के मौके पर पांच से 15 नवंबर तक कई कार्यक्रमों का आयोजन कर रही है.

पाकिस्तान की सरकार ने पिछले दिनों कहा था कि वह नौ नवंबर को होने वाले करतारपुर गलियारे के उद्घाटन समारोह में मनमोहन सिंह को आमंत्रित करेगी. पाकिस्तान सिख धर्म के संस्थापक गुरू नानक देव की 12 नवंबर को होने वाली 550वीं जयंती से कुछ दिनों पहले नौ नवंबर को करतारपुर गलियारा खोल रहा है.