पाकिस्तान की संसद ने उस विधेयक को फिलहाल रोक दिया है जिसमें संविधान संशोधन के जरिये गैर मुस्लिमों को प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति बनने की अनुमति देने का प्रावधान था. पीटीआई के मुताबिक पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के ईसाई सांसद डॉ नवीद आमिर जीवा यह विधेयक प्रस्तुत करना चाहते थे. विधेयक के जरिये जीवा चाहते थे कि अनुच्छेद 41 और 91 में संशोधन कर गैर मुस्लिमों को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति बनने की अनुमति प्रदान की जाए.

लेकिन फिलहाल यह विधेयक अटक गया है. बताया जा रहा है कि संसदीय मामलों के राज्यमंत्री अली मुहम्मद ने प्रस्तावित विधेयक का विरोध किया. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान एक इस्लामिक गणराज्य है जहां केवल एक मुस्लिम ही प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति बन सकता है. पाकिस्तान के दक्षिणपंथी दल जमात-ए-इस्लामी के सदस्य मौलाना अब्दुल अकबर चित्राली ने इस कदम का स्वागत किया है.