मुंबई में रेल की पटरियों पर मृत पाए गए एक भिखारी की जांच-पड़ताल के दौरान पुलिस को उसके पास साढ़े 11 लाख रुपये की संपत्ति होने का पता चला है. पीटीआई ने एक अधिकारी के हवाले से बताया कि भिखारी के घर से सिक्कों से भरा थैला मिला जिसमें कुल 1.75 लाख रुपये थे. साथ ही 8.77 लाख रुपये की सावधि जमा (फिक्स डिपॉजिट) का प्रमाण पत्र भी मिला और यह भी पता चला कि उसके बैंक खाते में 96 हजार रुपए हैं.

इस शख्स का नाम था बिरदीचंद पन्नारामजी आज़ाद. राजस्थान से ताल्लुक रखने वाला 82 साल का बिरदीचंद मुंबई के गोवंडी और मानखुर्द स्टेशनों के बीच एक नाले के पास तिरपाल की झोपड़ी में रहता था. रेलवे पुलिस के एक अधिकारी ने बताया, ‘हमें शुक्रवार को सूचना मिली थी कि गोवंडी और मानखुर्द के बीच पटरियों पर एक व्यक्ति पड़ा हुआ है. आसपास के लोगों ने उसकी पहचान भिखारी के तौर पर की...लोगों ने हमें उसके घर का रास्ता बताया.’

दुर्घटनावश मौत के मामले में फाइल बनाने के लिए पुलिस बिरदीचंद के सामान की छानबीन कर रही थी. इसी दौरान उसे एक थैला मिला जो एक और दो रुपये के सिक्कों से भरा था. उसमें बैंक के कुछ कागजात, आधार, पैन और वरिष्ठ नागरिक कार्ड था. अधिकारी ने बताया कि प्लास्टिक के थैले में सिक्के रखे हुए थे जो गिनने पर 1.75 लाख रुपये निकले. साथ ही, दो अलग-अलग बैंकों में 8.77 लाख रुपये की एफडी और बैंक खाते में 96 हजार रुपये होने का पता चला. बिरदीचंद ने एफडी में नॉमिनी अपने बेटे सुखदेव को बनाया हुआ है जो राजस्थान के रामगढ़ का रहने वाला है. राजस्थान पुलिस के जरिए उसके बेटे से संपर्क करने की कोशिश की जा रही है.