इस साल रसायन शास्त्र का नोबेल पुरस्कार अमेरिकी वैज्ञानिक जॉन गुडइनफ, ब्रिटेन के वैज्ञानिक स्टेनली व्हिटिंघम और जापान की अकीरा योशिनो को दिया गया है. पीटीआई के मुताबिक रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेस ने आज इन विजेताओं के नाम की घोषणा की. इन्हें यह सम्मान लीथियम आयन बैटरी विकसित करने के लिए दिया गया है.

नोबेल पुरस्कार देने वाले निर्णायक मंडल ने इस खोज को क्रांतिकारी बताया. उसने कहा, ‘इन हल्की, फिर रिचार्ज हो सकने वाली और शक्तिशाली बैटरियों का इस्तेमाल अब मोबाइल फोन से लेकर लैपटॉप और इलेक्ट्रॉनिक वाहनों तक सभी चीजों में होता है. इनमें सौर और पवन ऊर्जा की अच्छी खासी मात्रा संग्रहीत की जा सकती है जिससे पेट्रोल-डीजल जैसे जीवाश्म ईंधनों से मुक्त समाज की ओर बढ़ना संभव होगा.’

इससे पहले भौतिकी के नोबेल पुरस्कार की घोषणा हुई थी. इस बार तीन लोगों को भौतिक विज्ञान में योगदान के लिए नोबेल दिया गया है. जेम्स पीबल्स को ब्रह्माण्ड विज्ञान पर नए सिद्धांत रखने के लिए जबकि मिशेल मेयर और डिडिएर क्वेलोज को सौरमंडल से परे एक और ग्रह खोजने के लिए संयुक्त रूप से पुरस्कार दिया गया है. जेम्स पीबल्स कनाडाई मूल के अमेरिकी नागरिक हैं. उन्होंने बिग बैंग, डार्क मैटर और डार्क एनर्जी पर जो काम किया है, उसे आधुनिक ब्रह्मांड विज्ञान का आधार माना जाता है.

साहित्य के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार विजेताओं का नाम गुरूवार को सामने आएगा. शांति के नोबेल पुरस्कार के विजेता का नाम शुक्रवार को घोषित किया जाएगा. इसके अलावा सोमवार, 14 अक्टूबर को अर्थशास्त्र के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार विजेता के नाम की घोषणा की जाएगी.