कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि पार्टी के सामने आपात जरूरत आत्ममंथन की है. उनका यह बयान उनकी ही पार्टी के नेता सलमान खुर्शीद के उस बयान को लेकर प्रतिक्रिया मांगने पर आया कि कांग्रेस नेतृत्व को लेकर खालीपन से गुजर रही है. पीटीआई के मुताबिक ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, ‘मैं दूसरों के बयानों पर टिप्पणी नहीं करता. पर यह सच है कि कांग्रेस को जल्द से जल्द आत्ममंथन की जरूरत है. पार्टी की स्थिति पर आकलन होना चाहिए और विचार होना चाहिए कि यह कैसे सुधरे.’

ज्योतिरादित्य सिंधिया को लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस अध्यक्ष का पद छोड़ने वाले राहुल गांधी के करीबियों में गिना जाता है. चर्चाएं हैं कि वे मध्य प्रदेश कांग्रेस के मुखिया का पद चाहते हैं, लेकिन पार्टी के बुजुर्ग नेताओं का खेमा ऐसा नहीं होने दे रहा. बीते दो महीनों के दौरान उनके भाजपा में जाने की चर्चाएं भी खूब चली हैं. जब जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने का जब उन्होंने समर्थन किया तो इन चर्चाओं को और हवा मिली. हालांकि कांग्रेस के सूत्रों ने इससे इनकार किया है.

इससे पहले सलमान खुर्शीद ने भी कहा था कि कांग्रेस को आत्ममंथन की जरूरत है. उनका कहना था कि लोकसभा चुनाव में हुई कांग्रेस की हार के बाद से अब तक नहीं हो सका क्योंकि राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद छोड़ दिया.