कांग्रेस नेता राहुल गांधी मानहानि के एक मामले में आज सूरत की एक अदालत में पेश हुए. पीटीआई के मुताबिक उन्होंने कहा कि आपराधिक मानहानि के इस मामले में वे दोषी नहीं हैं. यह मामला राहुल गांधी की कथित टिप्पणी ‘सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों होता है’ से जुड़ा है. सूरत-वेस्ट से भाजपा विधायक पूर्णेश मोदी ने कांग्रेस नेता के खिलाफ यह मामला दर्ज करवाया था. उन्होंने अपनी शिकायत में कहा था कि कांग्रेस नेता ने लोकसभा चुनाव के दौरान अपनी टिप्पणी से पूरे मोदी समुदाय की मानहानि की है.

राहुल गांधी मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट बी एच कपाड़िया की अदालत में पेश हुए. अदालत ने उनसे पूछा कि क्या वे इन आरोपों को स्वीकार करते हैं तो उन्होंने कहा, ‘मैं निर्दोष हूं.’ राहुल गांधी की दलील दर्ज किए जाने के बाद उनके वकीलों ने अगली सुनवाई में उनके निजी तौर पर उपस्थित रहने से स्थायी छूट मांगने वाला एक आवेदन दिया. अदालत ने कहा कि इस आवेदन पर वह 10 दिसंबर को फैसला करेगी. उसका यह भी कहना था कि उस दिन राहुल गांधी को उपस्थित होने की कोई आवश्यकता नहीं है.

कर्नाटक में 13 अप्रैल को कोलार में अपनी एक प्रचार रैली के दौरान राहुल ने कथित तौर पर कहा था, ‘नीरव मोदी, ललित मोदी, नरेंद्र मोदी.... आखिर इन सभी का उपनाम मोदी क्यों है? सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों होता है.?’ केरल के वायनाड से सांसद राहुल को आरएसएस/भाजपा कार्यकर्ताओं की तरफ से उनके खिलाफ दायर इसी तरह के एक अन्य मामले में शुक्रवार को अहमदाबाद में चल रही अदालती सुनवाई में भी शामिल होना है.