पोलैंड की लेखिका ओल्गा तोकार्चुक ने गुरुवार को वर्ष 2018 के लिये साहित्य का नोबेल पुरस्कार जीता है. साथ ही ऑस्ट्रियाई उपन्यासकार और पटकथा लेखक पीटर हैंडके को 2019 के लिये यह पुरस्कार दिया गया. 2018 का साहित्य का नोबेल पुरस्कार यौन उत्पीड़न विवाद के चलते नहीं घोषित किया गया था. इसी कारण से 2018 और 2019 के साहित्य के नोबेल पुरस्कार एक साथ घोषित किए गए हैं.

पोलैंड की लेखिका ओल्गा तोकार्चुक को अपनी पीढ़ी की सबसे प्रतिभाशाली उपन्यासकार माना जाता है. स्वीडिश अकादमी के मुताबिक, उन्हें यह सम्मान, उस विमर्श की परिकल्पना के लिये दिया गया है जो जीवन के एक स्वरूप की हदें लांघने की विश्वव्यापी चाहत का प्रतिनिधित्व करती है. जबकि, साल 2019 के लिए साहित्य का नोबेल पुरस्कार के लिए ऑस्ट्रियाई लेखक पीटर हैंडके को चुना गया है. स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में नोबेल फाउंडेशन ने नोबेल पुरस्कार विजेताओं की घोषणा की गई.

पिछले साल नोबेल संस्थान की एक पूर्व सदस्य के पति फ्रांसीसी फोटोग्राफर ज्यां क्लाउड अर्नाल्ट पर यौन शोषण के आरोप लगे थे. इसके बाद स्वीडन की अकादमी को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. इसी वजह से उसने 2018 के साहित्य के नोबेल पुरस्कार नहीं देने की घोषणा की थी.