मुर्शिदाबाद में एक स्कूल शिक्षक, उसकी पत्नी तथा पुत्र की जघन्य हत्या के मामले ने गुरुवार को राजनीतिक रंग ले लिया. इस तिहरे हत्याकांड को लेकर भाजपा ने ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधा है. वहीं, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने दावा किया कि मारे गए शिक्षक आरएसएस से जुड़े थे.

भाजपा और संघ ने कहा कि प्राथमिक विद्यालय में शिक्षक बंधु गोपाल पाल उनके सक्रिय सदस्य जरूर नहीं थे, लेकिन वह कभी-कभी संघ के साप्ताहिक मिलन कार्यक्रमों में भाग लेते थे. भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट किया, ‘इससे ज्यादा जघन्य क्या हो सकता है? संघ के कार्यकर्ता बंधु प्रकाश पाल, उनकी गर्भवती पत्नी तथा उनके आठ वर्षीय पुत्र की मुर्शिदाबाद में नृशंस तरीके से हत्या कर दी गयी. किसी राज्य की कानून व्यवस्था की स्थिति को अच्छा कैसे माना जा सकता है जब आम आदमी की जान सुरक्षित नहीं है? दीदी आपके शासन में क्या हो रहा है.’ कैलाश विजयवर्गीय पश्चिम बंगाल के पार्टी मामलों के प्रभारी भी हैं. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने ट्वीट करके घर का वीडियो साझा किया जिसमें फर्श पर खून के धब्बे देखे जा सकते हैं. पात्रा ने ट्वीट किया, ‘चेतावनी : नृशंस वीडियो. इसने मेरी अंतरात्मा को झकझोर दिया है. पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में संघ कार्यकर्ता बंधु प्रकाश पाल, उनकी आठ माह की गर्भवती पत्नी और बच्चे की नृशंस तरीके से हत्या कर दी गयी. उदारवादियों की तरफ से एक भी शब्द नहीं आया. 59 उदारवादियों ने ममता को एक भी पत्र नहीं लिखा.’

35 वर्षीय शिक्षक, उनकी गर्भवती पत्नी ब्यूटी और आठ वर्षीय बेटे आंगन के शव मंगलवार को मुर्शिदाबाद के जियागंज में उनके घर में रक्तरंजित अवस्था में मिले थे. उस समय दुर्गा पूजा चल रही थी. पुलिस ने मुर्शिदाबाद की घटना के मामले में जांच शुरू कर दी है और तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है. तृणमूल कांग्रेस ने इस बारे में कोई टिप्पणी करने से इन्कार करते हुए कहा कि मामले की जांच चल रही है.