सऊदी अरब के जेद्दा बंदरगाह के पास शुक्रवार को एक ईरानी तेल टैंकर में विस्फोट हो गया. ईरानी तेल टैंकर कंपनी ने आशंका जताई है कि ऐसा मिसाइल हमले की वजह से हुआ है. ईरानी तेल टैंकर जहाज में विस्फोट से लाल सागर में तेल रिसाव की भी खबरें हैं. समाचार एजेंसी ‘आईएसएनए’ ने बताया कि विशेषज्ञों ने इसके ‘आतंकवादी हमला’ होने से इंकार नहीं किया है.

नेशनल ईरानियन टैंकर कंपनी ने एक बयान में कहा कि सऊदी तट से लगभग 100 किलोमीटर दूर साबिति के जहाज में दो विस्फोट हुए. बयान में कहा गया कि विस्फोटों के पीछे मिसाइल हमले की आशंका है. एनआईटीसी ने कहा, ‘जहाज के चालक दल के सभी सदस्य सुरक्षित हैं और जहाज की हालत भी स्थिर है.’ कंपनी ने कहा कि जहाज में सवार लोग उसकी मरम्मत कर रहे हैं. पहले खबरें आईं थी कि इस जहाज में आग लग गई है. लेकिन ईरान सरकार के स्वामित्व वाली कंपनी ने कहा कि जहाज में आग नहीं लगी है और जहाज पूरी तरह से स्थिर है.

कुछ दिनों पहले सऊदी अरब के तेल संयंत्र पर ड्रोन हमला हुआ था, जिसके बाद पूरी दुनिया में कच्चे तेल की कीमतें एकाएक बढ़ गई थीं. सऊदी अरब के उस तेल संयंत्र पर हुए हमले में ईरान की भूमिका के भी आरोप लगे थे. ईरान के तेल टैंकर पर हुए इस हमले को भी सऊदी अरब और ईरान के बीच तनाव से जोड़ा जा रहा है.