तेलुगू देशम पार्टी के मुखिया चंद्रबाबू नायडू ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी पर तीखा हमला बोला है. उन्होंने कहा कि जगन किसी ‘साइको’ की तरह व्यवहार कर रहे हैं. राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि वाईएसआर कांग्रेस पार्टी की मौजूदा सरकार द्वारा दूसरी पार्टियों और उनके नेताओं के खिलाफ अनावश्यक और गलत केस दर्ज किए जा रहे हैं. उनका यह भी कहना था कि नई सरकार जनविरोधी नीतियां लागू कर रही है.

विशाखापट्टनम में एक कार्यक्रम के दौरान चंद्रबाबू नायडू ने कहा, ‘वाईएसआरसीपी का शासन बहुत बुरा है. पार्टी नेता जे यानी जगन टैक्स इकट्ठा कर रहे हैं. मैंने कई मुख्यमंत्री देखे हैं मगर ऐसा मुख्यमंत्री नहीं देखा. कानून सबके लिए एक जैसा होना चाहिए.’

बीते मई में हुए विधानसभा चुनाव में सत्ताधारी चंद्रबाबू नायडू की पार्टी टीडीपी को करारी हार मिली थी जबकि वाईएसआरसीपी को प्रचंड बहुमत मिला था. इसके बाद से ही टीडीपी आरोप लगाती रही है कि जगन मोहन रेड्डी की पार्टी उसके खिलाफ अभियान छेड़े हुए है. टीडीपी का दावा है कि तब से अब तक हिंसा में उसके आठ कार्यकर्ता मारे जा चुके हैं. पिछले महीने पार्टी ने एक बड़ा मार्च निकालन का ऐलान किया था. लेकिन इससे पहले ही चंद्रबाबू नायडू और पार्टी के कई दूसरे नेताओं को नजरबंद कर दिया गया.

बीते जून में जगनमोहन रेड्डी सरकार ने चंद्रबाबू नायडू के मौजूदा बंगले सहित 20 इमारतों को घोषित कर दिया था. कृष्णा नदी के किनारे बने इस बंगले को खाली कराने के लिए नोटिस जारी किया गया था. उससे पहले सरकार ने चंद्रबाबू नायडू के बंगले से लगी ‘प्रजा वेदिका’ इमारत को ढहा दिया था. लगभग आठ करोड़ रुपए की लागत से बनी इस इमारत का इस्तेमाल चंद्रबाबू पार्टी की बैठकों, कार्यकर्ताओं से मुलाकातों और सरकारी कामकाज के लिए किया करते थे