अनुच्छेद-370 को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस और शरद पवार की पार्टी एनसीपी पर हमला बोला है. उन्होंने इन दलों को चुनौती देते हुए कहा है कि अगर इनमें हिम्मत है तो जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले रद्द किए गए प्रावधानों को बहाल करने का वादा करें.

पीटीआई के मुताबिक रविवार को महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों से पहले अपनी पहली रैली को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर महज जमीन का टुकड़ा नहीं बल्कि भारत का ताज है. वहां पिछले 40 सालों से जो स्थिति थी, उसे सामान्य करने में चार महीने का भी समय नहीं लगेगा.

कांग्रेस और एनसीपी पर हमला बोलते हुए मोदी ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ये दल अनुच्छेद-370 के प्रावधानों को रद्द करने के निर्णय का राजनीतिकरण कर रहे हैं. ये लोग जम्मू-कश्मीर को लेकर पूरे राष्ट्र की भावनाओं के ठीक उलट सोचते हैं.

नरेंद्र मोदी ने स्पष्ट तौर पर पाकिस्तान की तरफ इशारा करते हुए बिना किसी नेता का नाम लिए कहा, ‘आप कांग्रेस, एनसीपी के बयानों को देखें..वे पड़ोसी देश की जुबान बोलते हुए मालूम होते हैं.’

विपक्ष पर अनुच्छेद-370 के मुद्दे पर घड़ियाली आंसू बहाने का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना था, ‘मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि अगर उनमें हिम्मत है, वे राज्य के चुनाव और भविष्य के चुनावों के लिए भी अपने घोषणापत्र में ऐलान करें कि वे अनुच्छेद 370 और 35ए के रद्द प्रावधानों को बहाल करेंगे जिन्हें भाजपा, मोदी सरकार ने रद्द कर दिया..कहें कि वे पांच अगस्त के फैसले को बदल देंगे.’

प्रधानमंत्री मोदी ने देवेंद्र फड़णवीस नीत महाराष्ट्र सरकार के पांच साल के प्रदर्शन की प्रशंसा की. उन्होंने कहा कि फड़णवीस सरकार भ्रष्टाचार से मुक्त रही और इस सरकार ने किसानों और उद्योगों समेत सभी के बीच भरोसा पैदा किया है.