चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा है कि चीन को तोड़ने की कोशिश करने वालों की हड्डियां तोड़ दी जाएंगी. चीनी राष्ट्रपति की यह चेतावनी उनके नेपाल दौरे पर आई है. खबरों के मुताबिक नेपाल के नेताओं से बातचीत के दौरान शी जिनपिंग ने कहा कि चीन में किसी ने आजादी की वकालत की तो उसका कचूमर निकाल दिया जाएगा. उनका कहना था, ‘किसी बाहरी ताकत ने ऐसी कोशिशों का समर्थन किया तो वह चीन की नजर में दिन में सपने देखने वाली बात होगी.’

शी जिनपिंग के नेपाल दौरे का वहां रहने वाले कुछ तिब्बती लोग विरोध कर रहे थे. ये लोग तिब्बत की आजादी की मांग कर रहे हैं. इसके अलावा चीन के स्वायत्तशासी प्रांत हांगकांग में इन दिनों लोकतांत्रिक सुधारों की मांग को लेकर बड़ा आंदोलन जोरों पर है. चीनी राष्ट्रपति के इस बयान को इस सबसे जोड़कर देखा जा रहा है. उधर, नेपाल ने कहा कि तिब्बत चीन का आंतरिक मामला है. उसने शी जिनपिंग को भरोसा दिलाया कि वह अपनी धरती से चीन विरोधी गतिविधियां नहीं चलने देगा.

शी जिनपिंग के नेपाल दौरे में दोनों देशों के बीच कई द्विपक्षीय मुद्दों पर सहमति बनी है. चीन नेपाल में बुनियादी ढांचे से जुड़ी कई परियोजनाएं बनाएगा. इनमें काठमांडू तक रेल लाइन ले जाना भी शामिल है. इसके जरिये नेपाल भारत पर अपनी निर्भरता को कम करना चाहता है. उसने चीन की महत्वाकांक्षी परियोजना वन बेल्ट वन रोड का भी समर्थन किया है. हालांकि भारत इस परियोजना के खिलाफ है.