‘कमल का बटन दबाने पर आप न केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और नरेंद्र मेहता को वोट देंगे बल्कि इसका मतलब ये होगा कि पाकिस्तान पर परमाणु बम गिरा है.’  

— केशव प्रसाद मौर्य, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

भाजपा नेता और उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने यह बात महाराष्ट्र के ठाणे में एक चुनावी रैली के दौरान कही. उन्होंने कहा कि पूरा विश्व इन दो राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव पर नजर गड़ाए हुए है क्योंकि ये भारतीयों की सच्ची देशभक्ति का संकेत देंगे. अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त किए जाने के बाद देश में ये पहले बड़े चुनाव हैं. महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को मतदान होगा.

‘जय हिंद की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नया नारा जियो हिंद बन गया है.’

— सीताराम येचुरी, सीपीएम महासचिव

सीताराम येचुरी ने यह बात महाराष्ट्र में पालघर जिले में सीपीएम उम्मीदवार के समर्थन में एक चुनावी रैली के दौरान कही. उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार सरकारी स्वामित्व वाले बीएसएनएल और एमटीएनएल को बंद करने की ओर कदम बढ़ा रही है ताकि उद्योगपति मुकेश अंबानी के रिलायंस जियो को फायदा मिल सके. सीताराम येचुरी ने यह भी कहना है कि देश में आज अभूतपूर्व आर्थिक संकट बना हुआ है और इसकी वजह है भाजपा सरकार का सांठगांठ वाला पूंजीवाद (क्रोनी कैपिटलिज्म), एनपीएस, जीएसटी और नोटबंदी.


‘मेरे लिये ये कुछ अच्छा करने का सुनहरा मौका है.’  

— सौरव गांगुली, भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान

बीसीसीआई के भावी अध्यक्ष सौरव गांगुली ने यह बात इस नई जिम्मेदारी को लेकर कही है. उन्होंने कहा कि वे ऐसे समय में कमान संभालने जा रहे हैं जब पिछले तीन साल से बोर्ड की स्थिति बहुत अच्छी नहीं है और इसकी छवि बहुत खराब हुई है. सौरव गांगुली का यह भी कहना था कि उनकी पहली प्राथमिकता प्रथम श्रेणी के क्रिकेटरों की आर्थिक स्थिति ठीक करना है.


‘चीन को तोड़ने की कोशिश करने वालों की हड्डियां तोड़ दी जाएंगी.’  

— शी जिनपिंग, चीन के राष्ट्रपति

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की यह चेतावनी उनके नेपाल दौरे पर आई है. उनके इस दौरे का वहां रहने वाले कुछ तिब्बती लोग विरोध कर रहे थे. ये लोग तिब्बत की आजादी की मांग कर रहे हैं. इसके अलावा चीन के स्वायत्तशासी प्रांत हांगकांग में इन दिनों लोकतांत्रिक सुधारों की मांग को लेकर बड़ा आंदोलन जोरों पर है. चीनी राष्ट्रपति के इस बयान को इस सबसे जोड़कर देखा जा रहा है.