डोनाल्ड ट्रंप की तुर्की को चेतावनी, कहा - सीरिया पर हमला नहीं रोका तो उसकी अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया जाएगा

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पूर्वोत्तर सीरिया में तुर्की की सैन्य कार्रवाई के विरोध में उसके खिलाफ नए प्रतिबंधों की घोषणा की है. उन्होंने कहा कि अगर तुर्की ने हमला नहीं रोका तो उसकी अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया जाएगा. डोनाल्ड ट्रंप का ये भी कहना था कि तुर्की की सैन्य कार्रवाई आम नागरिकों को खतरे में डाल रही है और क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और स्थिरता को खतरा पहुंचा रही है. अमेरिका तुर्की के रक्षा, गृह और ऊर्जा मंत्रियों पर पहले ही प्रतिबंध लगा चुका है. अमेरिका के सीरिया से अपने सैनिकों को वापस बुलाने के फैसले के बाद तुर्की ने कुर्दों के प्रभाव वाले पूर्वोत्तर सीरिया पर हमला किया था. तुर्की कुर्दों को आतंकवादी मानता है. उसके हवाई हमलों और गोलाबारी के चलते हजारों की तादाद में आम नागरिक इस इलाके से पलायन करने पर मजबूर हो गए हैं.

पी चिदंबरम पर शिकंजा और कसा, ईडी को उन्हें गिरफ्तार करने की इजाज़त मिली

आईएनएक्स मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को एक और झटका लगा है. दिल्ली की एक अदालत ने प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी को उन्हें गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ करने की इजाजत दे दी है. पूर्व वित्त मंत्री फिलहाल तिहाड़ जेल में हैं. बताया जा रहा है कि ईडी की टीम कल सुबह वहीं जाकर पी चिदंबरम को गिरफ्तार करेगी. इसके बाद जांच एजेंसी उन्हें अदालत में पेश कर रिमांड की मांग करेगी. पी चिदंबरम को सीबीआई ने 22 अगस्त को गिरफ्तार किया था. उनकी ये गिरफ्तारी 2006 के आईएनएक्स मीडिया मामले में हुई थी. आरोप है कि इस मीडिया समूह में विदेशी निवेश की मंजूरी देने में गड़बड़ी हुई. तब वित्त मंत्री पी चिदंबरम ही थे. ईडी ने इसी सिलसिले में अलग से मनी लॉन्डरिंग का मामला दर्ज किया है. उधर, पी चिदंबरम इन सारे आरोपों को खारिज करते रहे हैं. उनका कहना है कि उनके खिलाफ राजनीतिक बदले की भावना से कार्रवाई हो रही है.

जम्मू-कश्मीर में फारुक अब्दुला की बेटी और बहन सहित कई महिलाओं को हिरासत में लिया गया

जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के खिलाफ श्रीनगर में प्रदर्शन कर रहीं कई महिलाओं को हिरासत में ले लिया गया है. इनमें जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला की बेटी सफिया अब्दुल्ला और उनकी बहन सुरैया भी शामिल हैं. फारुक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला पहले से ही हिरासत में हैं. इससे पहले जम्मू-कश्मीर में एसएमएस सेवा बंद कर दी गई. 72 दिन के बाद कल राज्य में पोस्ट पेड मोबाइल सेवा बहाल की गई थी. हालांकि इंटरनेट सेवा अब भी बंद है. पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद ही राज्य में संचार सहित कई सेवाओं पर पाबंदियां लगाई गई थीं. लेकिन धीरे-धीरे इन्हें हटाया जा रहा है. राज्य में स्कूल खोले जाने का ऐलान कर दिया गया है. पर्यटकों के लिए जारी एडवाइजरी भी वापस ले ली गई है.

नरेंद्र मोदी का कांग्रेस पर हमला जारी, कहा- रफाल मिलने से 125 करोड़ देशवासी खुश हुए लेकिन कांग्रेस नहीं

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कांग्रेस पर हमला जारी है. आज हरियाणा के थानेसर में एक रैली में उन्होंने कहा कि दशहरे के दिन जब भारत को पहला रफाल मिला तो देश के लोग खुश हुए, लेकिन कांग्रेस नहीं. प्रधानमंत्री ने कहा कि ये सिर्फ एक मामले की बात नहीं है बल्कि जिस बात से भी भारत को सम्मान मिलता है उस पर कांग्रेस के नेताओं का रवैया नकारात्मक ही रहता है. इससे पहले कल एक रैली में नरेंद्र मोदी ने कहा था कि कांग्रेस और बाकी विपक्षी दल हर सुधार के रास्ते में दीवार बनकर खड़े हैं. उन्होंने इन दलों को ये चुनौती भी दी थी कि वे अपने घोषणापत्र में अनुच्छेद 370 को बहाल करने का ऐलान करें.

भीमा-कोरेगांव मामले में सुधा भारद्वाज, अरुण फरेरा और वी गोंजाल्विस की जमानत याचिका नामंजूर

बॉम्बे हाई कोर्ट ने भीमा-कोरेगांव हिंसा मामले में गिरफ्तार सामाजिक कार्यकर्ताओं - सुधा भारद्वाज, अरुण फरेरा और वी गोंजाल्विस को जमानत देने से इनकार कर दिया है. जस्टिस सारंग कोटवाल ने आज तीनों कार्यकर्ताओं की जमानत याचिकाएं खारिज कर दीं. पिछले साल अगस्त में महाराष्ट्र पुलिस ने इन सभी को पहले नजरबंद किया था. फिर पुणे की एक अदालत द्वारा उनकी जमानत याचिकाएं ठुकराए जाने के बाद 26 अक्टूबर को उन्हें हिरासत में ले लिया गया था. तभी से तीनों कार्यकर्ता जेल में हैं. ये बीते साल का मामला है जब महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव में होने वाले एक सालाना आय़ोजन के दौरान हिंसा भड़क गई थी. पुलिस ने इन कार्यकर्ताओं पर इस हिंसा को भड़काने और सरकार के खिलाफ साजिश करने का आरोप लगाया है.