दिल्ली में ऑड-ईवन से महिलाओं को छूट, प्राइवेट सीएनजी गाड़ियों को नहीं

दिनों-दिन बढ़ रहे प्रदूषण से निपटने के लिए देश की राजधानी दिल्ली में दीवाली के बाद चार नवंबर से 15 नवंबर तक सम-विषम यानी ऑड-ईवन योजना लागू रहेगी. राज्य के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसे लेकर आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान उन्होंने कहा कि दूसरे राज्यों से आने वाली गाड़ियों पर भी ये योजना लागू होगी. इसमें दोपहिया वाहनों को छूट दी गई है. नियम तोड़ने पर चार हजार रुपये का जुर्माना लगेगा. अरविंद केजरीवाल ने ये भी कहा कि यह योजना केंद्र सरकार के मंत्रियों पर लागू नहीं होगी. हालांकि दिल्ली के मुख्यमंत्री और मंत्री इसके दायरे में आएंगे. अरविंद केजरीवाल ने ये भी बताया कि योजना में महिलाओं को छूट दी जाएगी. हालांकि पिछली बार के उलट इस बार निजी सीएनजी वाहनों को छूट नहीं मिलेगी. पिछली बार खबरें आई थीं कि कुछ लोगों ने इस योजना से बचने के लिए सीएनजी स्टीकरों का दुरुपयोग किया.

अमित शाह ने भाजपा और जेडीयू के बीच तनाव की चर्चाओं पर विराम लगाया, कहा - एनडीए बिहार में अगला विधानसभा चुनाव नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही लड़ेगा

एनडीए बिहार में 2020 में होने वाला विधानसभा चुनाव नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही लड़ेगा. ये कहकर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने जेडीयू और भाजपा के बीच इस मुद्दे पर मतभेद की चर्चाओं पर फिलहाल विराम लगा दिया है. उन्होंने कहा कि जेडीयू और भाजपा मिलकर चुनाव लड़ेंगे ये भी पूरी तरह से स्‍पष्‍ट है. दोनों दलों के बीच मतभेदों पर अमित शाह ने कहा कि गठबंधन में हमेशा ही कुछ न कुछ मनमुटाव रहता है और मतभेद को मनभेद में नहीं बदलना चाहिए. मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में जेडीयू से मात्र एक मंत्री बनाए जाने से नीतीश कुमार नाराज थे और उन्‍होंने सरकार में शामिल होने से इनकार कर दिया था. बाद में उन्होंने अपने मंत्रिमंडल का विस्‍तार किया तो इससे भाजपा को दूर रखा. इसके बाद जेडीयू और भाजपा के नेता एक-दूसरे की इफ्तार पार्टी में भी नहीं गए थे. इससे दोनों दलों में मतभेद की अटकलें और तेज हो गई थीं.

निर्मला सीतारमण के बयान पर मनमोहन सिंह का पलटवार, कहा - सरकार पर हर समस्या का ठीकरा अपने विरोधियों पर फोड़ने की सनक सवार है

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के उस बयान पर प्रतिक्रिया दी है जिसमें मौजूदा बैंकिंग संकट के लिए उन्हें दोषी ठहराया गया था. उन्होंने कहा कि सरकार पर हर समस्या का ठीकरा अपने विरोधियों पर फोड़ने की सनक सवार है. मनमोहन सिंह ने कहा कि अर्थव्यवस्था का इलाज करने से पहले ठीक से ये समझना होगा कि इसकी बीमारी क्या है और उसके क्या कारण हैं. उनका कहना था कि सरकार पर अपने विरोधियों को दोषी ठहराने की सनक सवार हो गई है, इसलिए वो अर्थव्यवस्था में फिर जान फूंकने वाले उपाय नहीं खोज पा रही.

इससे पहले निर्मला सीतारमण ने कहा था कि भारत के सरकारी बैंकों का सबसे खराब दौर तब था जब प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन थे. उन्होंने ये बात अमेरिका में कोलंबिया यूनिवर्सिटी के एक आयोजन में कही थी. वित्त मंत्री का कहना था कि इससे पैदा हुए संकट से बैंक आज तक जूझ रहे हैं.

पीएमसी घोटाले में गिरफ्तार एचडीआईएल के प्रमोटर बोले - संपत्तियां बेचकर पैसा वसूल लिया जाए

रियल एस्टेट समूह एचडीआईएल के प्रमोटरों ने अनुरोध किया है कि पीएमसी बैंक का बकाया चुकाने के लिए उनकी संपत्तियां बेची जाएं. राकेश और सारंग वधावन ने आरबीआई और जांच एजेंसियों के नाम एक चिट्ठी लिखी है जिसमें बेची जा सकने वाली संपत्तियों की सूची दी गई है ये दोनों पिता-पुत्र पीएमसी बैंक घोटाले में मुख्य आरोपित हैं और उन्हें गिरफ्तार किया जा चुका है. पीएमसी बैंक के कुछ अधिकारियों पर प्राइवेट रियल एस्टेट फर्म एचडीआईएल से सांठगांठ कर उसे कर्ज देने का आरोप है. बताया जा रहा है कि इसके चलते बैंक को 4355 करोड़ रु का नुकसान हुआ. पीएमसी की खस्ता हालत के चलते इसके आम ग्राहक जरूरत के हिसाब से पैसा नहीं निकाल पा रहे. अब तक बैंक के तीन ग्राहकों की अलग-अलग कारणों से मौत की खबर आ चुकी है.

सऊदी अरब में बड़ा सड़क हादसा, 35 विदेशी नागरिकों की मौत

सऊदी अरब में हुए एक भीषण बस हादसे में 35 विदेशी नागरिकों की मौत हो गई. ये हादसा मदीना शहर में हुआ जहां एक बस और लोडर की टक्कर हो गई. हादसे में चार अन्य लोग घायल हो हुए हैं. पुलिस के मुताबिक हादसे के शिकार लोग बाहर से आए तीर्थयात्री थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सऊदी अरब में हुई इस दुर्घटना पर शोक जताया है. एक ट्वीट में उन्होंने हादसे में मारे गये लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना जाहिर की. अप्रैल 2018 में सऊदी अरब में हुए एक सड़क हादसे में भी एक बस, टैंकर से टकरा गई थी. इस हादसे में चार ब्रिटिश तीर्थयात्रियों की मौत हो गई थी जबकि 12 अन्य घायल हो गए थे. इससे पहले जनवरी 2017 में मदीना के पास ही हुई एक सड़क दुर्घटना में छह ब्रिटिश नागरिकों की मौत हो गई थी.