उत्तरी सीरिया में तुर्की के हमले के बाद इस इलाके में पैदा हुए मानवीय संकट के कुछ कम होने के आसार लग रहे हैं. पीटीआई के मुताबिक कुर्द नेतृत्व वाले सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेज (एसडीएफ) ने कहा है कि वे अमेरिका और तुर्की द्वारा घोषित संघर्ष विराम का पालन करने के लिए तैयार हैं. एसडीएफ प्रमुख मजलूम आब्दी ने यह ऐलान किया. इससे पहले तुर्की ने कहा था कि वह सीमा के नजदीक कुर्द नेतृत्व वाले बलों के पीछे हटने की स्थिति में पांच दिन के लिए हमले बंद करने को तैयार है.

ब्रिटेन स्थित ‘सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स’ ने बताया कि तुर्की ने नौ अक्टूबर को उत्तर-पूर्वी सीरिया पर हमला किया था जिसमें दर्जनों नागरिक मारे गए थे और 3,00,000 लोग विस्थापित हुए थे. उधर, आब्दी से अमेरिका से अपील की है कि वह विस्थापितों की वापसी की गारंटी दे और यह सुनिश्चित करे कि क्षेत्र में कोई ‘जनसांख्यिकीय बदलाव’ न हो.

तुर्की कुर्दों को आतंकवादी मानता है. वह सीमा पर सीरिया की ओर 30 किलोमीटर लंबा एक ‘बफर ज़ोन’ बनाना चाहता है ताकि कुर्दों को दूर रखा जा सके और उसकी जमीन पर रह रहे 36 लाख सीरियाई शरणार्थियों में से कुछ को फिर से वहां बसाया जा सके.