‘केवल कम्युनिस्ट ही मोदी-शाह के शासन का विकल्प तैयार कर सकते हैं.’  

— प्रकाश करात, माकपा नेता और पोलित ब्यूरो सदस्य

प्रकाश करात ने यह बात भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के गठन के सौ वर्ष पूरे होने को लेकर अगरतला में आयोजित एक सम्मेलन में कही. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने उस विचारधारा को खो दिया है जिस पर वह स्वतंत्रता संग्राम के दौरान चली थी. माकपा नेता का यह भी कहना था कि कम्युनिस्ट देश भर में किसानों, श्रमजीवी लोगों, छात्रों और युवकों को साथ लेकर भाजपानीत शासन के खिलाफ आंदोलन चलाएंगे.

‘कांग्रेस के बयानों का इस्तेमाल पाकिस्तान द्वारा किया जाता है.’

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह बात हरियाणा के गोहाना में आयोजित एक चुनावी रैली में कही. धारा 370 को लेकर कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए उनका यह भी कहना था कि उसके जैसे दल न तो लोगों की भावनाएं समझ सकते हैं और न ही बहादुर जवानों के बलिदानों को सम्मान दे सकते हैं. हरियाणा में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होने हैं.


‘देश की अर्थव्यवस्था अब भी सबसे तेजी से विकास कर रही है.’  

— निर्मला सीतारमण, केंद्रीय वित्त मंत्री

निर्मला सीतारमण ने यह बात वाशिंगटन में पत्रकारों से संवाद के दौरान कही. वित्त मंत्री यहां आईएमएफ और विश्व बैंक की वार्षिक बैठक में भाग लेने आई हैं. आईएमएफ यानी अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने बीते मंगलवार को जारी अपनी नवीनतम विश्व आर्थिक परिदृश्य रिपोर्ट में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2019-20 में 6.1 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है. निर्मला सीतारमण ने इस पर कहा कि संस्था ने सभी अर्थव्यवस्थाओं के लिए विकास दर कम की है.


‘हम अमेरिका और तुर्की द्वारा घोषित संघर्ष विराम का पालन करने के लिए तैयार हैं.’  

— मजलूम आब्दी, कुर्द नेतृत्व वाले सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेज (एसडीएफ) के मुखिया

मजलूम आब्दी के इस बयान से पहले तुर्की ने कहा था कि वह सीमा के नजदीक कुर्द नेतृत्व वाले बलों के पीछे हटने की स्थिति में पांच दिन के लिए हमले बंद करने को तैयार है. उत्तरी सीरिया में तुर्की की सैन्य कार्रवाई के चलते हजारों लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा है. इस मानवीय संकट पर संयुक्त राष्ट्र और भारत सहित दुनिया के तमाम देशों ने चिंता जताई है.