पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के नए अध्यक्ष बनने जा रहे सौरव गांगुली और भारतीय क्रिकेट टीम के मौजूदा कोच रवि शास्त्री के बीच तल्खी एक बार फिर जाहिर हुई है. बीसीसीआई के नए अध्यक्ष चुने जाने के बाद कोलकाता पहुंचे सौरव गांगुली से मीडिया ने पूछा कि क्या उनकी रवि शास्त्री से बात हुई. इस पर सौरव गांगुली ने अपने अंदाज में कहा, ‘क्यों अब उन्होंने ऐसा क्या नया कर दिया है.’

सौरव गांगुली का यह जवाब क्रिकेट प्रशासन से लेकर आम क्रिकेट प्रेमियों में चर्चा का विषय बना हुआ है. दरअसल, सौरव गांगुली और रवि शास्त्री के बीच मनमुटाव की बातें सबसे पहले 2016 में सामने आई थीं. 2016 में सौरव गांगुली, सचिन तेंडुलकर और वीवीएस लक्ष्मण क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी के सदस्य थे, जिसे कोच का चयन करना था. उस वक्त अनिल कुंबले को टीम इंडिया का कोच चुना गया था. रवि शास्त्री ने भी कोच पद के लिए आवेदन किया था और माना जाता है कि अपने बजाय अनिल कुंबले के कोच बनने से शास्त्री नाराज थे. रवि शास्त्री ने उस समय कहा था कि उनके इंटरव्यू के दौरान सौरव गांगुली बैठक में मौजूद नहीं थे और यह बात उनके लिए अपमानजनक थी. जिसके जवाब में सौरव गांगुली ने कहा था कि रवि शास्त्री मूर्खों की दुनिया में रह रहे हैं और उन्हें लगता है कि वह मेरी वजह से कोच नहीं बने, जबकि इसके लिए वह खुद दोषी हैं. हालांकि, अनिल कुंबले के हटने के बाद रवि शास्त्री बाद में भारतीय टीम के कोच बने.

सौरव गांगुली के जवाब के बाद क्रिकेट के जानकार इसे बीसीसीआई में बदलते समीकरण के तौर पर भी देख रहे हैं. सोशल मीडिया में भी सौरव गांगुली के बयान पर काफी चर्चा हो रही है. सौरव गांगुली से मीडिया ने महेंद्र सिंह धोनी के बारे में भी सवाल पूछे. इस पर गांगुली का कहना था कि वह इस बारे में पहले चयनकर्ताओं से बात करेंगे, उसके बाद ही कुछ कहेंगे.