उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शुक्रवार को हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की दिनदहाडे हत्या कर दी गई. पुलिस ने बताया कि हमलावरों ने कमलेश तिवारी पर चाकू से वार किये और गोली भी मारी. गंभीर रूप से जख्मी कमलेश तिवारी को ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

पुलिस के अनुसार हमलावर नाका थानाक्षेत्र के खुर्शीदबाग में कमलेश तिवारी के आवास पर बने कार्यालय में गए और वारदात को अंजाम देने के बाद फरार हो गए. उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने बताया कि हत्यारे करीब 30 मिनट से अधिक समय तिवारी के साथ रहे. उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि किसी परिचित ने इसे अंजाम दिया है. उन्होंने बताया कि सीसीटीवी फुटेज से अहम सुराग हासिल हुए हैं और पुलिस मामले का जल्द ही खुलासा करेगी.

लखनऊ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने बताया कि हत्यारों की धरपकड के लिए पुलिस की दस टीमें लगायी गयी हैं. उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि आपसी रंजिश के तहत वारदात को अंजाम दिया गया है. मौके पर एक असलहा बरामद हुआ है. इस बीच कमलेश तिवारी की हत्या से आक्रोशित स्थानीय लोगों ने प्रदर्शन किया. एहतियातन क्षेत्र की दुकानें बंद करा दी गयीं हैं.

कमलेश तिवारी पहले हिंदू महासभा से जुड़े थे. वह तब चर्चा में आए थे जब 2015 में उन्होंने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ विवादित बयान दिया था. इसे लेकर काफी हंगामा हुआ था. जिसके बाद कमलेश तिवारी को गिरफ्तार कर लिया गया था. वह फिलहाल जमानत पर रिहा चल रहे थे.