नकल रोकने के लिए एक अजीबोगरीब तरीका अपनाते हुए कर्नाटक के एक कॉलेज ने छात्रों को गत्ते के कार्टन पहना दिए. मामला बेंगलुरु से 330 किलोमीटर दूर स्थित हावेरी की भगत प्री यूनिवर्सिटी का है. छात्र मिड टर्म एक्जाम दे रहे थे. कार्टन पहने इन छात्रों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही हैं. इनमें इनविजिलेटर भी छात्रों की निगरानी करते दिख रहे हैं.

मामला चर्चा में आने के बाद कर्नाटक के शिक्षा मंत्री एस सुरेश कुमार ने इस पर प्रतिक्रिया दी है. एक ट्वीट कर उन्होंने कहा, ‘ये अस्वीकार्य है. किसी को भी छात्रों के साथ जानवरों जैसा बर्ताव करने का अधिकार नहीं है.’ उन्होंने मामले की जांच की बात भी कही है.

सोशल मीडिया पर कई लोगों ने इसकी आलोचना की है. एक यूजर ने इसे बेतुका और अपमानजक बताते हुए लिखा कि यह छात्रों के लिए काफी अपमानजक है. कइयों के मुताबिक नकल एक समस्या है, लेकिन इससे निपटने का यह सही तरीका नहीं है. लोगों का यह भी कहना है कि जिसने भी यह किया है उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए.

उधर, कॉलेज ने अपनी इस कार्रवाई का बचाव किया है. खबरों के मुताबिक उसका कहना है कि बिहार में भी एक कॉलेज ने नकल रोकने के लिए इसी तरह का तरीका इस्तेमाल किया था और इसकी सोशल मीडिया पर खूब तारीफ हुई थी. कॉलेज के मुताबिक उसने एक नया प्रयोग किया है.