विश्व बैंक ने भारत को झटका दिया, विकास दर का अनुमान घटाया | रविवार, 13 अक्टूबर 2019

आर्थिक मंदी के हालात के बीच भारत को विश्व बैंक से झटका लगा. संस्था ने अब चालू वित्त वर्ष में भारत की विकास दर का अनुमान घटा दिया. विश्व बैंक ने इसे छह फ़ीसदी कर दिया है. इससे पहले अप्रैल में उसने इसे 7.5 प्रतिशत बताया था. हालांकि, दक्षिण एशिया आर्थिक फोकस के ताजा संस्करण में विश्व बैंक ने यह भी कहा कि मुद्रास्फीति अनुकूल है और यदि मौद्रिक रुख नरम बना रहा तो वृद्धि दर धीरे-धीरे सुधर कर 2020-21 में 6.9 फीसदी और 2021-22 में 7.2 फीसदी हो जाने का अनुमान है. (विस्तार से)

एनजीटी का केंद्र को आदेश, प्लास्टिक की बोतलों और थैलियों पर तीन महीने में प्रतिबंध लगाएं | सोमवार, 14 अक्टूबर 2019

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने केंद्र तथा अन्य एजेंसियों को निर्देश दिया कि वे पानी की बोतलों और थैलियों पर तीन महीने में प्रतिबंध लगाएं. एनजीटी के अनुसार ये सामान अच्छी खासी मात्रा में प्लास्टिक कचरा पैदा करते हैं. पीटीआई के मुताबिक एनजीटी के अध्यक्ष आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, ‘विशेषज्ञ समिति की सिफारिशों के आधार पर पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय, भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण तथा अन्य संबंधित एजेंसियों को कानून के अनुसार तीन महीने के भीतर यह कार्रवाई करनी चाहिए.’ (विस्तार से)

भीमा-कोरेगांव मामला : सुधा भारद्वाज, अरुण फरेरा और वी गोंजाल्विस की जमानत याचिका नामंजूर | मंगलवार, 15 अक्टूबर 2019

बॉम्बे हाई कोर्ट ने भीमा-कोरेगांव हिंसा मामले में गिरफ्तार सामाजिक कार्यकर्ताओं - सुधा भारद्वाज, अरुण फरेरा और वी गोंजाल्विस को जमानत देने से इनकार कर दिया. पीटीआई के मुताबिक न्यायमूर्ति सारंग कोटवाल ने तीनों कार्यकर्ताओं की जमानत याचिकाएं खारिज कर दीं. पिछले साल अगस्त में महाराष्ट्र पुलिस ने आरोपितों को पहले नजरबंद किया था और फिर पुणे की एक सत्र अदालत द्वारा उनकी जमानत याचिकाएं ठुकराए जाने के बाद 26 अक्टूबर को उन्हें हिरासत में ले लिया गया था. तभी से तीनों कार्यकर्ता जेल में हैं. उन्होंने पिछले साल बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. (विस्तार से)

पीएमसी बैंक के एक और ग्राहक की मौत, नींद की गोलियां खाकर खुदकुशी की | बुधवार, 16 अक्टूबर 2019

मुश्किलों से जूझ रहे पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव (पीएमसी) बैंक के एक और ग्राहक ने आत्महत्या कर ली. खबरों के मुताबिक 39 साल की निवेदिता बिजलानी ने नींद की गोलियां खाकर आत्महत्या की. वे पेशे से डॉक्टर थीं और मुंबई के वरसोवा इलाके में रहती थीं. उनकी बैंक में एक करोड़ रु से भी ज्यादा की रकम जमा थी. हालांकि पुलिस को नहीं लगता कि इस आत्महत्या का पीएमसी घोटाले से कोई संबंध है. बताया जाता है कि निवेदिता अवसाद यानी डिप्रेशन का शिकार थीं. (विस्तार से)

अयोध्या विवाद: मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन द्वारा नक्शा फाड़ने का मसला बार काउंसिल पहुंचा | गुरूवार, 17 अक्टूबर 2018

अयोध्या मामले में मुस्लिम पक्षकारों का प्रतिनिधित्व कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन के खिलाफ कार्रवाई के लिये एक हिंदू पक्षकार ने बार काउंसिल आफ इंडिया में शिकायत की. शिकायत इसलिए की गई क्योंकि सुप्रीम कोर्ट में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में अंतिम दिन की सुनवाई के दौरान राजीव धवन ने बुधवार को भगवान राम के जन्म स्थल को दर्शाने का दावा करने वाले एक नक्शे को फाड़ दिया था. अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रमोद पंडित जोशी ने एक बयान में कहा, ‘उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन ने शीर्ष अदालत में पेश किये गये नक्शे की प्रति के टुकड़े टुकड़े करके अनैतिक काम किया है. धवन का यह कृत्य उच्चतम न्यायालय बार की गरिमा को ठेस पहुंचाता है.’ (विस्तार से)

सुप्रीम कोर्ट ने प्रतीक हजेला के फौरन तबादले का आदेश दिया, कहा - कोई आदेश बिना कारण नहीं होता | शुक्रवार, 18 अक्टूबर 2019

सुप्रीम कोर्ट ने असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) की कवायद के अगुआ प्रतीक हजेला का तत्काल मध्य प्रदेश तबादला करने का आदेश दिया. मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली की एक पीठ ने कहा कि प्रतीक हजेला को इस प्रतिनियुक्ति पर अधिकतम अवधि तक रखा जाए. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस संबंध में तत्काल आदेश जारी होना चाहिए. खबरों के मुताबिक इस पर सरकार का पक्ष रखने वाले अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने पूछा कि क्या इसका कोई कारण है. इस पर मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने जवाब दिया, ‘कोई भी आदेश बिना कारण के नहीं होता.’ (विस्तार से)

कमलेश तिवारी हत्याकांड में नया मोड़, मां ने भाजपा नेता पर इल्जाम लगाया | शनिवार, 19 अक्टूबर 2019

हिंदू महासभा के पूर्व नेता कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में एक और नया मोड़ आ गया. उनकी मां ने इस हत्या का आरोप भाजपा के ही एक नेता पर लगाया. सीतापुर के रहने वाले कमलेश तिवारी की कल लखनऊ में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. उनकी मां ने कहा कि इसके पीछे स्थानीय भाजपा नेता शिव कुमार गुप्ता का हाथ है. कमलेश तिवारी की मां के मुताबिक दोनों में एक मंदिर को लेकर झगड़ा चल रहा था. कमलेश तिवारी के घरवालों ने परिवार के दो सदस्यों के लिए नौकरी की मांग भी की. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जब तक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद नहीं आएंगे, वे शव का दाह संस्कार नहीं करेंगे. कमलेश तिवारी की पत्नी ने मांग न मानने पर आत्महत्या की धमकी दी. (विस्तार से)

देश और दुनिया की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें.