चीन ने देश में विदेशी समाचार वेबसाइट्स के बड़े हिस्से पर रोक लगा दी है. इस कार्रवाई के चलते चीन के नागरिक इन समाचार वेबसाइटों की खबरें देख और पढ़ नहीं सकेंगे. चीन में प्रेस पर निगरानी रखने वाली एक एजेंसी ने मंगलवार को यह जानकारी दी.

फॉरेन कॉरेस्पोंडेंट्स ‘क्लब ऑफ चाइना’ (एफसीसीसी) ने एक बयान में कहा कि चीन के नागरिक अब यहां काम कर रहे 215 समाचार संगठनों में से 23 प्रतिशत की विषय-वस्तु नहीं पढ़ सकेंगे. एफसीसीसी ने बताया कि मुख्य रूप से अंग्रेजी के 31 फीसदी समाचार वेबसाइटों पर रोक लगा दी गई है. प्रतिबंधित वेबसाइटों में बीबीसी, ब्लूमबर्ग, द गार्डियन, द न्यूयॉर्क टाइम्स, द वॉल स्ट्रीट जर्नल, वॉशिंगटन पोस्ट, योमीयूरी सिम्बन और कई अन्य शामिल हैं.

चीन में ‘ग्रेट फायरवॉल’ के जरिए प्रतिबंध लगाया जाता है. आधुनिक रूप से इसे दुनिया का सबसे प्रभावशाली सेंशरशिप उपकरण माना जाता है. चीन इस तरह के प्रतिबंध पहले भी लगाता रहा है. फिलहाल माना जा रहा है कि ताइवान और हांगकांग के मसलों पर दुनिया की मीडिया में हो रही चर्चा के चलते उसने ऐसा किया है.