हरियाणा विधानसभा चुनाव में सत्ताधारी भाजपा उम्मीदों के मुताबिक प्रदर्शन करने में नाकाम दिख रही है. फिलहाल वह 90 में से 36 सीटों पर आगे चल रही है और इस तरह देेखें तो उसे पिछली बार के मुकाबले 11 सीटों का नुकसान है. उधर, रुझानों में अब तक कांग्रेस 34 सीटों पर आगे है और दुष्यंत चौटाला की जेजेपी को 10 सीटें मिलती दिख रही हैं. यानी मुकाबला कांटे का है. भाजपा के प्रदर्शन के मद्देनजर उसकी राज्य इकाई के मुखिया सुभाष बराला ने इस्तीफे की पेशकश की है. सुभाष बराला खुद अपनी सीट पर जेजेपी उम्मीदवार से पीछे चल रहे हैं.

केवल सुभाष बराला की ही बात नहीं है. हरियाणा में भाजपा को कई सीटों पर झटका लगता दिख रहा है. सात मंत्री अपनी सीटों पर पीछे चल रहे हैं. उधर, एनडीटीवी के मुताबिक हरियाणा के रुझानों से नाराज भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को दिल्ली तलब किया है. भाजपा ने राज्य की 75 से ज्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा था. लेकिन फिलहाल मामला फंस गया है. उधर, पार्टी उपाध्यक्ष विनय सहस्त्रबुद्धे ने भी माना है कि ये नतीजे उसकी उम्मीदों के अनुरूप नहीं रहे हैं. उनका कहना है कि इन पर आत्ममंथन किया जाएगा.