हरियाणा विधानसभा में बहुमत से छह सीट दूर रह गई भाजपा का निर्दलीय विधायकों से समर्थन लेकर सरकार बनाना तय दिख रहा है. लेकिन इनमें से एक विधायक को लेकर उसकी मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं. ये हैं हरियाणा लोकहित पार्टी के गोपाल कांडा. उन्होंने बिना शर्त भाजपा को समर्थन देने की बात कही है. आज उन्होंने भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के साथ दिल्ली में बैठक की और कहा कि उनका परिवार आरएसएस से जुड़ा रहा है.

लेकिन, गोपाल कांडा के समर्थन को लेकर विपक्षी कांग्रेस ही नहीं, भाजपा के भीतर से भी आवाज उठ रही है. भाजपा की वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने इस सिलसिले में पार्टी को नसीहत देते हुए कई ट्वीट किए हैं. उन्होंने कहा, ‘अगर गोपाल कांडा वही व्यक्ति है जिसकी वजह से एक लड़की ने आत्महत्या की थी तथा उसकी माँ ने भी न्याय नहीं मिलने पर आत्महत्या कर ली थी, मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है, तथा यह व्यक्ति ज़मानत पर बाहर है. गोपाल कांडा बेक़सूर है या अपराधी, यह तो क़ानून साक्ष्यों के आधार पर तय करेगा, किंतु उसका चुनाव जीतना उसे अपराधों से बरी नहीं करता. चुनाव जीतने के बहुत सारे फैक्टर होते हैं.’ उमा भारती ने यह भी कहा कि भाजपा साफ-सुथरी जिंदगी वाले कार्यकर्ताओं की पार्टी है जिसे इस तरह के लोगों को साथ नहीं लेना चाहिए.

उधर, कांग्रेस ने भी गोपाल कांडा का साथ लेने पर भाजपा पर निशाना साधा है. उसने कहा कि कभी इसी व्यक्ति के खिलाफ भाजपा प्रदर्शन किया करती थी. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि आज भाजपा के लिए गोपाल कांडा पवित्र हो गए. पार्टी नेता मनीष तिवारी ने भी गोपाल कांडा के भाजपा को समर्थन पर चुटकी ली है.

जिस मामले पर विवाद हो रहा है वह सात साल पुराना है. गोपाल कांडा अपनी ही कंपनी की एक महिला कर्मचारी गीतिका शर्मा की खुदकुशी के मामले में आरोपित हैं और उनके खिलाफ मुकदमा जारी है. वे इस समय जमानत पर बाहर हैं. पुलिस की ओर से दाखिल आरोप पत्र में गोपाल कांडा पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 306 (आत्महत्या के लिए उकसाने), धारा 471 (धोखाधड़ी) और कई अन्य धाराएं लगाई गई हैं. आरोप पत्र में गोपाल कांडा पर गीतिका का गर्भपात कराने का भी आरोप लगाया गया है.

गीतिका शर्मा की लाश अपने घर में फंदे से लटकी मिली थी. मौके से मिले सुसाइड नोट में गोपाल कांडा को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया था. इसके बाद गोपाल कांडा को गृह राज्य मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था. कुछ सालों बाद गीतिका शर्मा की मां अनुराधा शर्मा ने भी आत्महत्या कर ली. उन्होंने भी पीछे छोड़े नोट में अपनी बेटी की आत्महत्या के लिए गोपाल कांडा को ही जिम्मेदार ठहराया था.