हरियाणा का सस्पेंस खत्म हो गया है. राज्य में सरकार बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) ने हाथ मिला लिया है. जेजेपी के संस्थापक दुष्यंत चौटाला के साथ बैठक के बाद खुद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गठबंधन की घोषणा की.

शुक्रवार देर शाम हुई इस बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में अमित शाह ने कहा कि हरियाणा के जनादेश का आदर करते हुए दोनों पार्टियों ने मिलकर सरकार बनाने का फैसला किया है. बैठक में यह तय हुआ है कि प्रदेश में मुख्यमंत्री भाजपा का होगा और उपमुख्यमंत्री जेजेपी का होगा. इस दौरान भाजपा अध्यक्ष का यह भी कहना था कि कई निर्दलीय विधायकों ने भी भाजपा को समर्थन दिया है.

इस घोषणा के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि मनोहर लाल खट्टर एक बार फिर हरियाणा के मुख्यमंत्री बनेंगे और जेजेपी प्रमुख दुष्यंत चौटाला हरियाणा के उपमुख्यमंत्री होंगे.

जेजेपी और निर्दलियों के समर्थन के बाद हरियाणा की विधानसभा में भाजपा गठबंधन के पास कुल 59 सीटें हो जाएंगी, जो बहुमत से कहीं ज्यादा हैं. कुल 90 सीटों वाली हरियाणा विधानसभा में बहुमत का आंकड़ा 46 है. इस बार के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 40, कांग्रेस ने 31 और जेजेपी ने 10 सीटें जीती हैं. इसके अलावा नौ सीटों पर स्वतंत्र उम्मीदवार विजयी हुए हैं.