कांग्रेस ने कई भारतीय पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं की कथित जासूसी के मामले को लेकर शनिवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर फिर निशाना साधा. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक ट्वीट कर कहा, ‘बेईमान भाजपा सरकार ने जासूसी मामले पर वाजिब सवालों के जवाब देने से इनकार किया.’ कांग्रेस प्रवक्ता ने आगे कहा, ‘भारत सरकार में किसने स्पाइवेयर की खरीदारी की? प्रधानमंत्री या राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार में से किसने इसकी खरीद की इजाजत दी?’ रणदीप सुरजेवाला ने यह भी पूछा, ‘अगर फेसबुक ने मई, 2019 में सरकार को सूचित किया तो सरकार खामोश क्यों रही? जिम्मेदार लोगों के खिलाफ क्या कार्रवाई की गयी?’

उधर, एक इजरायली स्पाइवेयर के जरिये दो दर्जन भारतीय पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं की जासूसी को लेकर वाट्सएप और सरकार की तरफ से अलग-अलग बयान आ रहे हैं. फेसबुक के स्वामित्व वाली इस कंपनी का कहना है कि भारतीयों की जासूसी के बारे में भारत सरकार को बीते मई में ही बता दिया गया था. उधर, सरकार ने कहा है कि उसे जो जानकारी मिली थी उसकी भाषा बहुत ‘मुश्किल और तकनीकी’ थी. सरकार का यह भी कहना है कि वाट्सएप ने उसे यह नहीं बताया कि भारतीयों की निजता का उल्लंघन हो रहा है. यह पूरा मामला तब शुरू हुआ जब वाट्सएप ने एक अमेरिकी अदालत में दो इजरायली कंपनियों के खिलाफ मुकदमा किया.