तीस हजारी अदालत परिसर में शनिवार दोपहर वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच झड़प हो गयी. इस दौरान पुलिस के नौ वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया. अधिकारियों ने बताया कि इस झगड़े के दौरान पुलिस की एक गाड़ी को जला भी दिया गया. संघर्ष के दौरान दस से ज्यादा पुलिसकर्मियों के घायल होने की खबर है.

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि पार्किंग के मुद्दे पर कुछ वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच बहस होने के वाकये ने गंभीर रूप अख्तियार कर लिया. इस विवाद को लेकर वकीलों का आरोप है कि पुलिस ने गोलीबारी की, जिसमें उनके दो साथी घायल हो गए. हालांकि, पुलिस ने इनकार किया कि उसने गोली चलायी. अधिकारियों के मुताबिक, झड़प के दौरान एक वाहन में आग लगा दी गयी और आठ अन्य को क्षतिग्रस्त कर दिया गया. दमकल विभाग ने मौके पर 10 गाड़ियों को भेजा है. झड़प के बाद घटनास्थल पर भारी संख्या में पुलिसकर्मियों और दंगा रोधी वाहनों को तैनात किया गया है.

इसके बाद वकीलों ने अदालत परिसर के गेट के बाहर प्रदर्शन करते हुए आरोप लगाया कि पुलिस ने बहस के दौरान गोली चलायी. वकीलों की मांग है कि इसमें संलिप्तकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए. दिल्ली कांग्रेस प्रमुख सुभाष चोपड़ा पार्टी सदस्यों के साथ अदालत परिसर पहुंचे और झड़प में संलिप्त कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की.