‘हमें एक बार फिर अवसर दें, हम दोबारा लड़ेंगे और इस बार जीतेंगे.’  

— जयकुमार रावल, भाजपा नेता और महाराष्ट्र के पर्यटन मंत्री

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस के करीबी माने जाने वाले जयकुमार रावल का यह बयान राज्य में सरकार गठन को लेकर जारी अनिश्चितता के बीच आया है. उनके मुताबिक पार्टी के कुछ नेता चाहते हैं कि राज्य में दोबारा चुनाव हो. महाराष्ट्र में गठबंधन सहयोगियों शिवसेना और भाजपा के बीच सत्ता को लेकर खींचतान मची है. यही वजह है कि चुनावी नतीजों के 10 दिन बाद भी सरकार नहीं बन सकी है. शिवसेना मुख्यमंत्री चाहती है और भाजपा इससे इनकार कर रही है.

‘सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश से संबंधित उच्चतम न्यायालय का फैसला मौलिक अधिकारों से जुड़ा फैसला है. राज्य सरकार शीर्ष अदालत का फैसला लागू करने के लिए बाध्य है.’

— पिनराई विजयन, केरल के मुख्यमंत्री

पिनराई विजयन ने यह बात विधानसभा में विपक्षी यूडीएफ के एक सवाल के जवाब में कही. उन्होंने साफ किया कि उनकी सरकार सबरीमला के अयप्पा मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति संबंधी सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटने के लिए कोई कानून नहीं लाएगी. अदालत ने पिछले साल सितंबर में सबरीमला के अयप्पा मंदिर में 10 से 50 साल की उम्र की महिलाओं द्वारा पूजा करने पर लगी रोक हटा ली थी.


‘वह आगामी विधानसभा चुनाव के कारण सम-विषम योजना के जरिए नौटंकी कर रही है.’   

— विजय गोयल, भाजपा नेता और राज्यसभा सदस्य

विजय गोयल ने यह बात दिल्ली में सम-विषम योजना का विरोध करते हुए अपना 4000 रु का चालान कटवाने के बाद कही. वे सम दिन पर विषम नंबर की गाड़ी लेकर दिल्ली की सड़क पर निकले थे. प्रदूषण पर नियंत्रण में केजरीवाल सरकार को नाकाम बताते हुए विजय गोयल ने कहा कि दिल्ली में इस मोर्चे पर पांच साल में कुछ नहीं हुआ.


‘जब तक इमरान खान इस्तीफा नहीं देते, तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा.’  

— फजलुर रहमान, पाकिस्तान के धर्मगुरु

पाकिस्तान के तेज-तर्रार धर्म गुरु और नेता मौलाना फजलुर रहमान ने यह बात प्रधानमंत्री इमरान खान के इस्तीफे के लिए दी गई समयसीमा खत्म होने के बाद आगे की कार्रवाई पर चर्चा करने के लिए विपक्षी दलों की एक बैठक से पहले कही.
वे इस्लामाबाद में हजारों समर्थकों की मौजूदगी वाले ‘आजादी मार्च’ का नेतृत्व कर रहे हैं. उनके इस व्यापक विरोध प्रदर्शन को पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन), पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी), पख्तूनख्वा मिल्ली आवामी पार्टी, कौमी वतन पार्टी, नेशनल पार्टी और आवामी नेशनल पार्टी का समर्थन प्राप्त है.