दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष एवं सांसद मनोज तिवारी का कहना है कि दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के लिए अरिवंद केजरीवाल सरकार जिम्मेदार है. मनोज तिवारी ने आरोप लगाया कि केजरीवाल सरकार राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण नियंत्रण को लेकर तनिक भी प्रयत्न नहीं कर रही है उल्टे, पराली का बहाना बनाकर अपने ऊपर लगने वाले आरोपों से बचने का प्रयास कर रही है.

वृन्दावन के वात्सल्य ग्राम परिसर में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान मनोज तिवारी ने कहा कि दिल्ली में पराली के कारण मात्र आठ प्रतिशत प्रदूषण है, जबकि 92 प्रतिशत प्रदूषण के कारणों की बात दिल्ली सरकार नहीं कर रही है. उन्होंने दिल्ली सरकार को सलाह दी कि वह भी हरियाणा की तर्ज पर किसानों से पराली खरीदे और बिजली बनाए, ताकि प्रदूषण पर नियंत्रण किया जा सके.

दिल्ली सरकार के प्रचार विज्ञापनों पर परोक्ष रूप से व्यंग्य करते हुए मनोज तिवारी ने कहा, ‘दिल्ली सरकार यदि अपने विज्ञापन के बजट में से कटौती कर 20 करोड़ की पराली खरीद ले तो किसान भी मालामाल हो जाएं और पराली से होने वाला प्रदूषण भी नहीं होगा.’ उन्होंने ‘सम-विषम योजना’ को दिल्ली के जी का जंजाल बताते हुए कहा, ‘यह तभी सफल और संभव होगा जब शहर की सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था दुरुस्त हो. इस प्रकार तो यह कमी को छिपाने की कोशिश भर है.’