राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मंगलवार को हवा की गति में वृद्धि होने से प्रदूषण के स्तर में कुछ कमी आई, लेकिन वायु गुणवत्ता अब भी ‘बेहद खराब’ श्रेणी में बनी हुई है. मौसम विभाग ने कहा है कि अगले 24 घंटों में तेज हवाएं चलने की संभावना है. यानी प्रदूषण के लिहाज से हवा की हालत थोड़ा और सुधर सकती है.

आज सुबह पौने दस बजे दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 365 दर्ज किया गया. हवा में मामूली बढ़ोतरी के कारण सोमवार को रात साढ़े आठ बजे शहर का औसत एक्यूआई 370 दर्ज किया गया था. एक्यूआई 0-50 के बीच ‘अच्छा’, 51-100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101-200 के बीच ‘मध्यम’, 201-300 के बीच ‘खराब’, 301-400 के बीच ‘अत्यंत खराब’, 401-500 के बीच ‘गंभीर’ और 500 के पार ‘बेहद गंभीर’ माना जाता है. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) की बात करें तो नोएडा में एक्यूआई 388 दर्ज किया गया, जबकि गाजियाबाद में 378, फरीदाबाद में 363 और गुड़गांव में यह 361 दर्ज किया गया.

इससे पहले एक्यूआई के लगातार गंभीर स्तर में रहने की वजह से दिल्ली में जन स्वास्थ्य के लिहाज से आपातकाल घोषित कर दिया गया था. दिल्ली सरकार ने शुक्रवार को पांच नवंबर तक स्कूलों को बंद करने और निर्माण गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाने का निर्देश दिया था.