महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना के बीच सरकार बनाने की तनाव के बीच एक शिवसेना नेता ने आरएसएस से दखल देने का अनुरोध किया है. शिवसेना नेता किशोर तिवारी ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को लिखे पत्र में कहा है कि अगर बातचीत के लिए नितिन गडकरी को भेजा जाए तो दो घंटे में मसले का हल निकल जाएगा.

शिवसेना नेता किशोर तिवारी को नितिन गडकरी का नजदीकी माना जाता है. खबरों के मुताबिक, किशोर तिवारी ने यह भी कहा कि भाजपा में नितिन गडकरी को दरकिनार किया जा रहा है. किशोर तिवारी ने यह भी कहा कि भाजपा शिवसेना के साथ गठबंधन धर्म का पालन नहीं कर रही है. इसलिए आरएसएस प्रमुख को इस पूरे मसले में दखल देना चाहिए.

भाजपा और शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर चल रहा गतिरोध मंगलवार को भी समाप्त होते नहीं दिख रहा है. मंगलवार को भी शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि राज्य में मुख्यमंत्री शिवसेना का ही होगा. उन्होंने एनसीपी प्रमुख शरद पवार के भी मुख्यमंत्री होनेे की संभावना से इन्कार किया है. शिवसेना की मांग यह है कि राज्य में मुख्यमंत्री पद ढाई-ढाई साल के लिए बारी-बारी से दोनों पार्टियों को मिलना चाहिए. लेकिन भाजपा इससे इन्कार कर रही है.