दिल्ली में अपने साथियों पर वकीलों के हमले के खिलाफ पुलिसकर्मियों के सड़क पर उतर आने की खबर आज सभी अखबारों के पहले पन्ने पर है. काली पट्टी लगाए ये पुलिसकर्मी न्याय की मांग कर रहे थे. काफी समझाने-बुझाने और मांगों पर कार्रवाई का भरोसा देने के बाद देर रात उन्होंने अपना धरना प्रदर्शन खत्म कर दिया. इसके अलावा महाराष्ट्र में शिवसेना भाजपा के बीच तनातनी के चलते छायी सियासी अनिश्चितता से जुड़ी खबरों को भी अखबारों ने प्रमुखता से जगह दी है. शिवसेना नेता संजय राउत ने कल एनसीपी मुखिया शरद पवार के महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की दौड़ में होने की खबरों को खारिज किया. उन्होंने कहा कि अगला मुख्यमंत्री शिवसेना से ही होगा.

16 साल से लटके गुजरात के विधेयक पर राष्ट्रपति की मुहर

आतंकवाद और संगठित अपराध पर नकेल कसने के लिए बनाए गए बहुचर्चित गुजरात आतंकवाद नियंत्रण एवं संगठित अपराध अधिनियम (गुजटोक) को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूरी दे दी है. दैनिक जागरण के मुताबिक इस कानून को 16 साल बाद मंजूरी मिली है. सरकार का कहना है कि यह कानून आतंकवाद के साथ शराब की तस्करी, फिरौती और जालसाजी जैसे संगठित अपराधों पर शिकंजा कसेगा. इसकी खास बात यह है कि टेलीफोन पर हुई बातचीत को वैधानिक साक्ष्य माना जाएगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात का मुख्यमंत्री रहते इस कानून का मसौदा तैयार किया था. राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए यह विधेयक 2004 से लंबित था.

बैंक धोखाधड़ी के सिलसिले में 190 जगहों पर सीबीआई के छापे

सात हजार करोड़ रुपए से ज्यादा के बैंक धोखाधड़ी के कई मामलों की जांच के सिलसिले में मंगलवार को सीबीआई ने देश भर में 190 जगहों पर एक साथ छापे मारे. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक ये छापे 16 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में मारे गए. इस व्यापक कार्रवाई में 1000 से ज्यादा अधिकारियों ने हिस्सा लिया. सीबीआई सूत्रों के मुताबिक कम से कम चार मामले ऐसे हैं जिनमें एक हज़ार करोड़ रुपए से ज़्यादा की धोखाधड़ी की गई. ज्यादातर छापे महाराष्ट्र में (58 जगहों पर) मारे गए. उसके बाद पंजाब (32) का नंबर रहा.

दिल्ली में प्रदूषण फैलाने के आरोप में 10 गिरफ्तार

देश की राजधानी दिल्ली में मंगलवार को 10 लोगों को प्रदूषण फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया. हिंदुस्तान के मुताबिक इस तरह की कार्रवाई पहली बार हुई. इन लोगों को एनजीटी 2010 की धारा 15 के तहत गिरफ्तार किया गया. ओखला और द्वारका इलाके में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) बढ़ने पर दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की टीम ने कचरा जलाने और अवैध मलबा डालने के आरोप में 400 व्यक्तियों के खिलाफ शिकायत दर्ज की. इन पर मुकदमा दर्ज कर 10 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया. दिल्ली-एनसीआर पिछले कई दिनों से हवा में घुली जहरीली धुंध से जूझ रहा है.