राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार ने भाजपा और शिवसेना से कहा है कि वे महाराष्ट्र में जल्द से जल्द सरकार का गठन करें. पीटीआई के मुताबिक साथ ही अपने रुख पर अडिग रहते हुए उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी एक जिम्मेदार विपक्ष के तौर पर काम करेगी. शिवसेना के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत के साथ आज हुई मुलाकात के बाद उन्होंने उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी को समर्थन देने की अटकलों को खारिज कर दिया.

भाजपा और शिवसेना के पिछले 25 वर्ष से साथ होने और उनके ‘‘ देर-सवेर साथ आ ही जाने’’ की बात कहते हुए शरद पवार ने कहा, ‘अगर हमारे पास बहुमत होता, तो हम किसी का इंतजार नहीं करते. कांग्रेस और एनसीपी 100 का आंकड़ा पार नहीं कर पाए... हम एक जिम्मेदार विपक्ष के तौर पर काम करेंगे.’ भाजपा और शिवसेना के पास शासन करने का जनादेश होने का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘उन्हें जल्द से जल्द सरकार बना राज्य को संवैधानिक संकट से बचाना चाहिए.’

शिवसेना को समर्थन देने के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से उनकी बातचीत के सवाल पर शरद पवार ने कहा, ‘कांग्रेस और एनसीपी ने एकसाथ चुनाव लड़ा था. हम चाहते हैं कि राजनीतिक स्थिति के बारे में सभी निर्णय आम सहमति से लिए जाएं. मुझे नहीं पता कि कांग्रेस का क्या फैसला है.’ शरद पवार ने उनके फिर राज्य का मुख्यमंत्री बनने की अटकलों को भी खारिज कर दिया. उन्होंने कहा, ‘मैं चार बार मुख्यमंत्री रहा हूं और अब मुझे दोबारा उस पद को हासिल करने की कोई बेसब्री नहीं है.’